अन्ना जानवर बने किसानों के लिए समस्या

रात के अंधेरे में खेतों में घुसकर फसल कर रहे चौपट

उरई (जालौन)। जनपद जालौन के ग्रामीण क्षेत्रों में आवारा घूमने वाले जानवर किसानों के सामने बड़ी समस्या खड़ी करते नजर आ रहे है जिनकी बजह से जनपद का किसानों काफी परेशान नजर आ रहा है। रात होते ही आवारा जानवरों के झुण्ड के झुण्ड खेतों घुसकर खड़ी फसल को नष्ट करने पर तुले हुए है। जिनके रोकथाम की कोई ब्यवस्था प्रशासन की ओर से नहीं की जा रही है।
किसानों की समस्या को देखते हुए सरकार द्वारा गांवों में स्थाई अथवा अस्थाई गोशालाओं का संचालन शुरू कराया गया था। लेकिन समय के साथ इनका संचालन भी बंद हो गया है। जिसके चलते अब अन्ना जानवर खेतों में घुसकर फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। ऐसे में किसान मेहनत से बोई गई फसल को अन्ना जानवरों से बर्बाद होती फसल को देखकर अपना सिर पकड़कर बैठ जाते हैं। उन्हें परिवार के भरण पोषण की चिंता सता रही है। कई किसानों ने कर्ज लेकर जुताई व बुवाई कराई थी। उन्हें भी कर्ज उतारने की चिंता सता रही है। किसान गजेंद्र सिंह, ज्ञानेंद्र सिंह, अतुल कुमार आदि ने बताया कि गांवों में आवारा जानवरों के झुंड घूम रहे हैं। किसान मेहनत व रखवाली के बावजूद अपनी फसल को बर्बाद होने से नहीं बचा पा रहे हैं। ये झुंड जिस खेत में घुस जाते हैं वहां की फसल को बर्बाद करके रख देते हैं। गोशालाओं के खुलने से किसानों को राहत मिली थी। लेकिन अब उनका भी संचालन बंद होने से पूर्व जैसी स्थिति हो गई है। पीड़ित किसानों ने डीएम से गोशालाओं का संचालन पुनः शुरू कराने की मांग की है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126