अपराधी पुरुषों से भी आगे है बिगड़ैल महिलाओं का यह गैंग

रेप का ड्रामा, केस, वसूली…फिर हो जाती थीं रफूचक्कर, यूं ‘हनीट्रैप गैंग’ तक पहुंची पुलिस

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ जनपद में परतापुर पुलिस ने युवतियों के एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है, जो अधेड़ व्यक्तियों को हनीट्रैप में फंसाकर उनके खिलाफ दुष्कर्म के मुकदमे दर्ज कराती थीं। इसके बाद आरोपियों से मोटी रकम वसूलकर उनके साथ समझौता कर लेती थीं। पुलिस ने पिछले दिनों एक टीचर पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती सहित दो महिलाओं को गिरफ्तार किया है।

12 अगस्त को मोदीनगर की गोविंदपुरी निवासी तनु शर्मा नाम की युवती ने मोदीपुरम के रहने वाले अधेड़ टीचर ध्यानचंद पर खुद के साथ दुष्कर्म का आरोप लगाया था। युवती का आरोप था कि पहले से परिचित ध्यानचंद ने उसे नर्सिंग का कोर्स कराने का झांसा देकर मिलने के लिए परतापुर स्थित कसाना गेस्ट हाउस में बुलाया। इसके बाद शिक्षक ने नशीली कोल्ड ड्रिंक पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इस मामले में पुलिस जांच में ही जुटी थी कि पीड़िता के साथ थाने पहुंची एक महिला ने खुद को महिला आयोग की अधिकारी बताते हुए थाने में हंगामा कर दिया। इसके बाद पुलिस ने भी आनन-फानन में आरोपी टीचर ध्यानचंद को जेल भेज दिया था।

आरोपों से मुकर गई युवती
उधर, आरोपी ध्यानचंद के जेल जाने के बाद तथाकथित पीड़िता और उसकी साथियों ने अपना खेल शुरू कर दिया। इसके तहत ध्यानचंद के परिवार के पास युवती की ओर से समझौते के लिए मेसेज भिजवाया गया। बातचीत होने के बाद युवती ने आरोपी ध्यानचंद के परिवार से एक मोटी रकम वसूली। इसके बाद कोर्ट में हुए 164 के बयान के दौरान पीड़िता ध्यानचंद पर लगाए गए दुष्कर्म के आरोपों से मुकर गई।

तो पुलिस ने थाने में बैठा लिया
इतना ही नहीं सोमवार को तथाकथित पीड़िता तनु शर्मा अपने साथ संगीता नाम की महिला को लेकर परतापुर थाने जा पहुंची। तनु ने केस की जांच कर रहे धर्मवीर नाम के दरोगा पर आरोपी ध्यानचंद के पक्ष में मुकदमे में एफआर लगाने का दबाव बनाना शुरू कर दिया। इसे लेकर उसकी पुलिस के साथ बहस हो गई। हंगामा बढ़ता देख पुलिस ने दोनों महिलाओं को थाने में बैठा लिया।

इन लोगों को बनाती रही हैं शिकार
परतापुर थाने के इंस्पेक्टर आनंद मिश्रा ने बताया कि तनु और संगीता से पूछताछ की गई तो सनसनीखेज खुलासा हुआ। जानकारी मिली कि दोनों महिलाएं अबतक कई लोगों को हनी ट्रैप में फंसाकर अपना शिकार बना चुकी हैं। इस गिरोह की सरगना हापुड़ के गढ़ी मोहल्ला निवासी संगीता है। इसके पास तनु जैसी कई लड़कियों की फौज है। इन लड़कियों के माध्यम से संगीता बुजुर्ग और नौकरीपेशा व्यक्तियों को अपना शिकार बनाती रही है। लोगों को झूठे मुकदमे में फंसाकर बाद में समझौते के नाम पर उनसे मोटी रकम वसूलना इन महिलाओं का पेशा है। इंस्पेक्टर परतापुर ने बताया कि दोनों महिलाओं के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की जा रही है। वहीं, जेल भेजे गए ध्यानचंद की रिहाई के लिए 169 सीआरपीसी की कार्रवाई की गई है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126