अवैध सवारी वाहन चालकों की सामत, अब पुलिस के निशाने पर

तीन सब इंस्पेक्टरो की अलग अलग टीमें जुटी छापेमारी में
अब तक नगर में ही 2000 से अधिक वाहनों का सत्यापन
उरई(जालौन)। सड़क पर दौड़ते सवारी वाहनों पर अब पुलिस ने अपनी नजरें गढ़ा दी है। अवैध वाहन पकडे़ जाने पर उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी तेज कर दी गयी है इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर जनपद में ऐसे वाहनों की जांच पडताल और सत्यापन के लिये तीन सब इंस्पैक्टरों की अलग अलग तीन टीमें धरपकड महिम छेडे हुये है सूत्रों की माने तो अब तक नगर में ही तकरीबन दो हजार से अधिक छोटे बडे सवारी वाहनों के सत्यापन कराये जा चुके है।
गौरतलब हो कि बीते कुछ वर्षो के दौरान नगरीय क्षेत्रों में सवारी वाहनों की तादात तेजी के साथ बडी है ऐसा माना जा रहा था कि इनमें अवैध वाहनों का भी संचालन किया जा रहा है जिन पर अंकुश बनाने के उदेश्य से पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर वाहनों की जांच पडताल और उनके कागजों का सत्यापन कराने की मुहिम शुरू की गयी है इस महिम को पूरा करने के लिये तीन अलग अलग टीमें बनाई गयी है जिसमें एक सब इंस्पेक्टर और दो दो कांस्टेबिल शामिल किये गये है जो नगर के विभन्न चैराहों पर वाहनों पर अपनी पैनी नजर गढाये रहते है जो भी वाहन खास ई रिक्शा टेंपों आदि बिना नंबर का दिखता है या जिस पर उन्हें संदेह होता है उसे रोककर सभी आवश्यक कागज चैक करने के उपरांत ही जाने देते है। नगर में सत्यापन कर रही टीम के प्रभारी सब इंस्पेक्टर मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि जिलें भर के सभी नगरीय क्षेत्रों में यह सत्यापन कार्य पुलिस अधीक्षक के निर्देश के तहत कराया जा रहा है। सत्यापन की उनकी टीम में कांस्टेबिल मनोज सोनकर और राहुल शामिल है जबकि एसआई संतराम कुशवाहा की टीम में कांस्टेबिल राजीव कुमार कांस्टेबिल रविकुमार तथा एसआई मुहम्मद आरिफ की टीम में कांस्टेबिल आर्दश कुमार और राघवेन्द्र शामिल है।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126