आखिर क्यों न फूटे कोरोना बम, खुलेआम उड़ रही नियमों की धज्जियां

उरई(जालौन)।जिले में कोरोना पॉजिटिव संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है, मगर लोग इस बात की अनदेखी कर रहे हैं। बाजार की भीड़ देखकर ऐसा लगता है, कि कोरोना जैसी महामारी कभी थी नहीं। इतना ही नही बाज़ार में खरीदारी करने के मामलों में पुरुषों से ज्यादा महिलाएं इस रेस का हिस्सा बन रहीं है। नतीजन बाज़ारो की भीड़ और बेखौफ घूमने वाले लोग स्वयं ही कोरोना को खुलेआम निमंत्रण देने में लगे हैं। बीते रविवार को जिले में कोरोना बम फूटा और एक साथ 74 केस कोरोना पॉजिटिव पाएं गए जिसमें जिसमें एक जनप्रतिनिधि के साथ 29 कैदी भी शामिल थे। लिहाजा इस हिसाब से देखा जाएं तो लोगों के मन मे कोरोना का भय होना चाहिये किंतु स्थिति ठीक इसके विपरीत स्थिति देखी जा रही है। सोमवार को जैसे ही बाज़ार खुला तो भीड़ का जनसैलाब दुकानों पर उमड़ पड़ा। दुकानों पर सैकड़ो की संख्या में कस्टमर्स खरीदारी करने में लगे हुए थे। आलम यह था कि जैसे कोरोना जनपद से रफूचक्कर हो चुका है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126