आपरेशन ‘बिजली’ के तहत पुलिस अपराधियों के ऊपर गिराने लगी बिजली

लूट-डकैती, स्मगलिंग और काले कारोबारों से अर्जित 189 अपराधियों की 20 करोड़ मूल्य की संपत्ति जब्त
अपराध से अर्जित संपत्ति को नीलाम करने की तैयारी
संपत्ति के लुटेरे, खूंखार अपराधियों के विरुद्ध पूरे प्रदेश में चलेगा अपराध से संपत्ति नीलाम करने का अभियान
शासन की इतनी कठोर कार्यवाही से प्रदेश के अपराधियों में हड़कंप
अनिल शर्मा+संजय श्रीवास्तव+डॉ. राकेश द्विवेदी

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब प्रदेश के मोस्टवांटेड, टाप टेन, माफिया, हत्या, डकैती, स्मगलिंग, लूट और अन्य काले कारोबारों से संपत्ति अर्जित करने वाले अपराधियों के पीछे तो अब हांथ धोकर पड़ गए हैं।

इस अभियान का प्रारंभ अपने गृह क्षेत्र गोरखपुर जोन से करते हुए मुख्यमंत्री ने प्रथम चरण में 189 अपराधियों के विरुद्ध कार्यवाही करवाते हुए कड़े आदेश देकर उनकी 20 करोड़ की संपत्ति को जब्त भी करा दिया है। अब संपत्ति की नीलामी की प्रक्रिया प्रारंभ होगी। डीआईजी के आदेश पर चारो जिलों में आपरेशन बिजली के तहत 189 अपराधियों की प्रॉपर्टी को जब्त किया गया है। बदमाशों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

अपराधियों पर कार्रवाई करने के मामले में बरेली पुलिस अव्वल है। बरेली पुलिस ने अकेले 14.5 करोड़ की प्रॉपर्टी को अटैच कर उसे नीलाम करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। टाप टेन अपराधियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में थाना पुलिस पहले फर्जी बदमाशों की सूची डीआईजी और एडीजी को भेज रही थी।

टाप टेन बदमाशों की जगह पुलिस छुटभैये, चाकू वाले उचक्कों के नाम भेज रही थी। ऐसे बदमाश जो पुलिस की जेब में थे। जिन्हें जब चाहें पकड़कर गिरफ्तारी, ईनाम का गुडवर्क दिखाकर वाहवाही लूटी जा सके। एडीजी अविनाश चंद्र और डीआईजी राजेश पांडेय ने थानों के निरीक्षण के दौरान मोस्ट वांटेड बदमाशों के बारे में पूछताछ की तो पुलिस की टाप टेन सूची की हवा निकल गई।

इसके बाद डीआईजी ने चारो जिलों में बदमाशों के खिलाफ आपरेशन बिजली चलाया। इसमें टाप टेन और मोस्ट वांटेड बदमाशों में उन्हें रखा गया , जिनके खिलाफ लूट, हत्या, जानलेवा हमला, डकैती और गैंगेस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज था। गैंगेस्टर में वांटेड चल रहे लोगों की प्रॉपर्टी चिन्हित कर उसे नीलाम करने के लिये जब्त किया गया है। रेंज के चारो जिलों में 189 बदमाशों की प्रॉपर्टी अटैचमेंट की कार्यवाही की गई है। डीएम से अनुमति मिलने के बाद इनकी प्रॉपर्टी को नीलाम कर रकम को सरकारी खजाने में जमा कराया जायेगा।

48 घंटे में 204 चिन्हित, दर्जन भर से ज्यादा इनामी गिरफ्तार

डीआईजी राजेश पांडेय ने बताया कि आपरेशन बिजली को चारो जिलों में चलाया गया था। 48 घंटे में 204 बदमाशों को चिन्हित किया गया था। इसमें से दर्जन भर से ज्यादा इनामी बदमाशों को असलहों और कारतूसों के साथ गिरफ्तार किया गया। सबसे ज्यादा कार्यवाही पीलीभीत पुलिस ने कर नौ बदमाशों को गिरफ्तार किया।

याद दिला दें कि अपराध से अर्जित की गई चल संपत्ति को अटैच करके नीलाम करने का अधिकार पुलिस और प्रशासन को देश मे बनाये गए आतंकवाद निरोधक अधिनियम के तहत काफी वर्षों से प्राप्त है। मगर इन शक्तियों का प्रयोग इतने बड़े पैमाने पर प्रदेश के इतिहास में पहली बार ‘योगी राज’ में किया जा रहा है। अचानक अपराधियों के विरुद्ध आग बबूला हो उठे मुख्यमंत्री ने इस बेहद सख्त अभियान का श्री गणेश अपने गृह क्षेत्र से ही प्रारंभ करवाया है। उक्त अभियान पूरे प्रदेश में इन्हीं तेवरों के साथ संचालित किया जाएगा। जिससे प्रदेश के छोटे-बड़े अपराधियों के हौसले बुरी तरह पस्त दिखाई दे रहे हैं। खास तौर पर पुराने और जंगी हो चुके दुसाहसिक अपराधियों की भी रूह कांप रही है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126