इंस्पेक्टर की 17 साल की बेटी ने छोटे भाई को गोली मारी, लूट की कहानी रची

प्रयागराज: जिले में मंगलवार को 17 साल की लड़की ने अपने छोटे भाई को गोली मार दी। घटना के बाद लड़की ने ही शोर मचाकर लोगों को बुलाया और घर में लूट की कहानी बनाई। पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की, तो पता चला कि आपसी झगड़े से तंग आकर लड़की ने ही अपने भाई को गोली मारी थी।
घटना प्रयागराज के यमुनापार इलाके में रहने वाले पुलिस इंस्पेक्टर के घर की है। मंगलवार को घर में फायरिंग की आवाज सुनकर लड़की की मां और दूसरी मंजिल पर रहने वाली किराएदार मौके पर पहुंची थीं। उस समय 11वीं क्लास में पढ़ने वाला लड़का खून से लथपथ जमीन पर पड़ा था। पुलिस ने बताया कि लड़के को 3 गोलियां मारी गई थीं, जो उसके पेट और सीने में लगी थीं।
लड़के के साथ देखकर भाई ने बहन को पीटा था
जानकारी के मुताबिक, आजमगढ़ जिले में इंस्पेक्टर की पत्नी की उम्र करीब 50 साल है। पैर में इन्फेक्शन की वजह से उन्हें चलने फिरने में तकलीफ होती है। इसलिए, वे अक्सर बेड पर रहती हैं। सूत्रों की मानें, तो लड़के ने अपनी बहन को किसी लड़के के साथ देखा था। इस बात पर उसने बहन की पिटाई कर दी थी। इसके बाद जब भाई अपने कमरे में सोने गया, तो बहन ने पिता की लाइसेंसी बंदूक से उस पर फायर कर दिए।
लड़की ने गढ़ी लूट की कहानी
घायल लड़के को अस्पताल भेजने के बाद पुलिस ने लड़की से पूछताछ की। लड़की ने बताया कि बाइक से आए तीन लोग बाउंड्री फांदकर घर के भीतर आए और उसे पीटना शुरू कर दिया। भाई बचाने आया, तो उसे गोलियां मारकर भाग गए। लड़की ने कहा कि हमला करने वालों ने चेहरे पर मास्क लगाया था, इसलिए वह उन्हें पहचान नहीं सकी। उसने गहने चोरी होने की बात भी कही। इधर, लड़के ने बयान दिया था कि वह जब सो रहा था, तब उस पर गोली चलाई गई थी।
45 मिनट में हुआ झूठ का पर्दाफाश
पुलिस को पड़ताल में किसी के जबरन घर में घुसने के सबूत नहीं मिले। घर के पास लगे सीसीटीवी फुटेज में भी उसके बताए हुलिए वाला कोई शख्स नहीं दिखा। पुलिस ने किचन में छिपाकर रखे गए गहने भी बरामद कर लिए। इसके बाद लड़की ने पिता की लाइसेंसी पिस्टल से भाई को गोली मारने की बात कबूल कर ली। उसने बताया कि भाई के साथ उसका झगड़ा होता था, इसीलिए उसने भाई को गोली मार दी। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है।
परिवार ने केस दर्ज नहीं कराया
इस घटना को लेकर इंस्पेक्टर के परिवार ने कोई केस दर्ज नहीं कराया है। नैनी कोतवाली प्रभारी ने ही मामला दर्ज कराया। लड़की के पिता पुलिस विभाग में ही काम करते हैं। सूत्रों के मुताबिक, पुलिस ने इसीलिए झगड़े की असल वजह को छिपाते हुए, बहन-भाई के बीच झगड़े को फायरिंग की वजह बता दिया।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126