ईशा वैक्विट सहित आधा सैकड़ा अवैध भवनों पर चलेगा प्रशासन का बुल्डोजर

जानकारी देते सिटी मजिस्ट्रेट

ईशा वैक्विट सहित अन्य भवनों को गिराने के लिये तीन सदस्यीय टीम हुयी गठित

आधा सैकड़ा अवैध भवन प्रशासन के निशाने पर

ईशा वैक्विट पहले से ही जांच के घेरे मे, अब गिराने की बारी

घबरा गया खानदानी भू माफिया गिरोह

उरई(जालौन): जेल रोड स्थित ईशा वैक्विट विवाह घर के जहां अब जमीदोज होने के दिन आ गए है। वहीं शहर के अवैध भवन निर्माण कराने वालों की अब खैर नही नगर में प्रशासन ने आधा सैकडा से अधिक अवैध भवन स्वामियों को चिहिन्त कर उनके खिलाफ नोटिस जारी किया है। जल्दी ही ऐसे लोगो के खिलाफ कार्यवाही करायी जायेगी ।
गौरतलब हो कि विगत काफी अरसे से नगर में अवैध भवनों के निर्माण की मुहिम तेजी से चलाई जा रही है जिसमें कई भू माफियां पूरी तरह से सक्रिय रहे और उन्होने जगह जगह अवैध भवन निर्माणों को अंजाम देकर बेशकीमती भूमि पर कब्जा कर लिया। हैरत की बात तो यह है कि उक्त भूमि हडपू गिरोहों के हौसलें इस कदर बढे हुये थे कि उन्होने इस बात की भी परवाह करना मुनासिब न समझा कि जिस भूमि पर वह अपने भवन खडे कर रहे है वह एक दिन उन्हें जेल की हवा खिला सकती है बाबजूद बिना किसी खौफ के वह अपनी काली करतूतों को अंजाम देने में जुटे रहे। बहरहाल लगातार मिल रही शिकायतों के बाद जब प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लियां तो अवैध भवन निर्माण कराने वालों की तादात अच्छी खासी रही जिन्हें प्रशासन ने चिहिन्त कर उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही का मन बना लिया है। सिटी मजिस्टे्रट सुनील कुमार शुक्ला ने बताया कि अवैध भवन निर्माण को लेकर शिकायतें आयी थी जिनको लेकर प्रशासन ने विकास प्राधिकरण के तीन जेईओं की अलग अलग टीमें बनाई है जो कि मानीटरिंग कर रही है ताकि उक्त लोगो को चिहिन्त कर उनके विरूध कार्यवाही करायी जा सके सिटी मजिस्ट्रेट ने इस बात का भी खुलासा किया कि विकास प्राधिकरण की टीमों दारा अब तक 55 लोगो के सूची तैयार की गई है जिन्हें नोटिस जारी किये जा रहे है। ईशा वैक्विट पर मुसीबत आने से शहर के बहुचर्चित भू माफियाओं मे खलबली मच गयी।

अवैध भवन निर्माण के मामलों में जेल रोड स्थित ईशा वैक्विट भी प्रशासन के रडार पर आ गया है नगर मजिस्टे्रट सुनील कुमार शुक्ला की माने तो उन्हें इस मामले में पूर्व में ही शिकायत मिली थी जिस पर प्रशासन ने मामलों की जांच कराने के लिये टीमें गठित की है जो कि प्रत्येक बिंदु को परखेगी। उक्त कार्यवाही कब और कैसे होगी फिलहाल अभी प्रशासन इस दिशा में कुछ भी खुलासा नही कर रहा लेकिन इतना तय है कि अवैध भवन स्वामी अपनी काली करतूतों के चलतें अब प्रशासनिक कार्यवाही से बच नही सकेगे। गौरतलब हो कि जिले को विकास प्राधिकरण में शामिल किये जाने के बाद यहां नगर में कुछ भू माफियां खासे सक्रिय हो गये और उन्होने जगह- जगह सरकारी भूमि को कब्जाना शुरू कर दिया यही नही उन्होनें विकास प्राधिकरण के मानको को तांक पर रख ऐसे भवनों का निर्माण भी करा दिया जिनके लिये उन्होने नक्शे तक पास कराना मुनासिब न समझा। बहरहाल अब जिला प्रशासन विकास प्राधिकरण को साथ लेकर ऐसे अवैध भवन स्वामियों के खिलाफ बडी कार्यवाही के लिये कमर कस चुका है। इसके चलते उरई शहर के पुराने कुख्यात खानदानी भू माफिया जिनमे एक महिला भी शामिल है। उनके गिरोह के अंदर अच्छी खासी खलबली मच गयी है। क्योंकि ईशा वैक्विट का पुराना अपराधी स्वामी एवं उरई का भू माफिया जो गिरोह का सरगना भी है एवं उसके गिरोह के अंदर बहुत अधिक बेचेनी देखी जा रही है। गिरोह के सदस्य ईशा वैक्विट को गिरने से बचाने के लिये चारों तरफ हांथ पैर मारने मे दिखायी दे रहे है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126