एट क्षेत्र में खुलेआम कोटेदार की मिली भगत से माफिया कर रहे खाद्यान की काला बाज़ारी

कई सालों से दो माफिया डाल रहे गरीबो के हक पर डाका
उरई (जालौन)। विकास खण्ड डकोर के कस्बा एट व आसपास के दर्जन भर गांव में कोटेदारों की मिली भगत से दो माफिया गरीबो के हक पर डाका डाल कर खुले आम सरकारी खाद्यान की काला बाज़ारी कर रहे है। रातो रात कुन्तलों सरकारी चावल पिकप में भर जाता है मिलो पर।
देश भर में फैली कोरोना जैसी महामारी के चलते लोक डाउन का दंश झेल रहे लोगो के पास प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ भले ही गरीबो के घर तक राशन सामग्री पहुचाने में बार बार अधीनस्थों को आदेशित कर रहे है उसके बाद भी घर घर योजनाओं का पहुचाने के लोए बार बार अधिस्थो को आदेशित कर रहे है उसके बाद भी धन के लोभ में आकर कुछ लोग उनके मंसूबो पर पानी फेरने का काम करने में लगे हुए है जिसकी जीती जागती मिशाल एट थानां क्षेत्र में देखी जा रही है जहाँ कुछ कोटेदारो की मिली भगत से दे माफिया खुले आम सरकारी चालव की काला बाज़ारी करने में लगे हुए है। सूत्रों की मानें तो जिले इस समय सरकारी खाद्यान की काला बाज़ारी का धंधा जोरो से चल रहा है जहां एट क्षेत्र में दो माफिया कोटेदारों आए सेटिंग गेटिंग करके सरकारी चावल को 1400 रुपये कुंतल में खरीदते है। बाद में रातो रात पिकप में भर कर उन्हें काला बाज़ारी के लिए जिले के बाहर धान मील पर मंहगे दामो में बेच कर लाखो रुपये कमा रहे है । इतना ही कोटेदार इतने चतुर व चालक है कोबरा पुलिस से लेकर थानां पुलिस को भी नज़राना देते है जिससे रात में उनकी गाड़ी आसानी से जिले के वाहर निकल जाती है। कोटेदार अनपढ़ ग्रामीणों में झांसा उनको मिलने बाले सरकारी चावल को उन्हें न देकर उनकी काला बाज़ारी के लिये माफियाओ को दे देते है। कोटेदारों से मिलकर माफिया सरकारी खाद्यान की काला बाज़ारी करके खुले आम लोक डाउन से मरी जनता का मुंह का निबाला छीन रहे है । उसके बाद भी अधिकारी ऐसे कोटेदारों व काला बाज़ारी करने बाले माफियाओ पर कोई कार्यवाही नही करती, जब पिछले दस सालों से दोनों माफिया वेखौफ़ होकर अपना काला व्यापार बड़े पैमाने पर कर रहे है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126