कब बनेगे विकास प्राधिकरण के क्रीड़ा स्थल और पार्क

उरई(जालौन): अब इसे विडंबना ही कहेगे कि विकास प्राधिकरण की कई कार्य योजनायें लंबे अंतराल बाद भी अधर में लटकी हुयी है। नगर के लगभग आधा दर्जन स्थानों पर चिन्हित क्रीड़ा स्थल और पार्क में विचरण करने का लोगो का सपना वर्षो बाद भी पूरा होता नजर नही आ रहा है। बहरहाल लोग अब इस पर फब्तियां कसने लगे है।
एक दशक से अधिक समय पूर्व जिला मुख्यालय को विकास प्राधिकरण में शामिल होने का अवसर मिला उरई विकास प्राधिकरण के नाम से नगर में विकास कार्यो की एक लंबी कार्य योजना बनाई गयी। जिसमें एक योजना नगर के विभिन्न स्थानों पर क्रीड़ा स्थल और पार्क विकिसत करना भी शामिल रहा। हांलाकि इसे अमलीजामा पहनाने की दिशा में स्थानों का चयन तो कर लिया गया और कई जगह उन्हें बेरीकेटिंग आदि से सुरक्षित भी कर लिया गया। साथ ही उनके समीप बोर्ड लगाकर इतना तो स्पष्ट कर दिया गया कि उक्त स्थान क्रीड़ा स्थल और पार्क के लिये अधिग्रहित है। किन्तु विडंबना की बात तो यह है कि उनमें से अधिकांश स्थान कूडा घर और कचरें के ढे़र लगे होने से महज खाली पडे़ उपेछित भूखंड नजर आ रहे हैं। बहरहाल जो भी हो लेकिन जिस तरह से उक्त स्थल विभागीय उदासीनता बयां कर रहे है उससे एक महत्वपूर्ण कार्य योजना की सार्थकता पर प्रश्न चिन्ह लगा हुआ है।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126