कानपुर के बालगृह में हुई घटना की जांच को लेकर आप ने सौपा ज्ञापन

हाईकोर्ट की निगरानी में जांच करवाने की मांग राज्यपाल से उठाई
उरई (जालौन)। कानपुर के राजकीय बालगृह में नाबालिग लड़कियों के साथ हुए अमानवीय कृत्य की जांच करवाये जाने की मांग लेकर राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर जिलाधिकारी को सौंपा।
आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष दीनदयाल सोनी के नेतृत्व में जगदीश गुप्ता, अब्दुल सईद खाँ, धर्मेंद्र जाटव, संगीता यादव, डा. श्रद्धा चौरसिया, जयशंकर आदि ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को भेंट किया। जिसमें लिखा है कि वैश्विक महामरी कोरोना से पूरा देश त्राहिमाम कर रहा है। ऐसी विकट परिस्थितियों में कानपुर के राजकीय बालगृह से आयी खबर रौंगटे खड़े करने वाली है। आम आदमी पार्टी नेताओं का कहना है कि कानपुर के बालगृह की 7 बालिकाएं गरभवती पायी गयी है। उनमें से एक को एड्स भी है। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की लापरवाही और मिली भगत के कारण बच्चियों को संरक्षित और सुरक्षित रखने के लिए स्थापित किये गये बालगृह वर्तमान समय में अनाथ, बेसहारा और मजबूर बच्चियों की इज्ज़त के साथ खिलवाड़ का अड्डा बन चुका है। यहीं नहीं पूरे प्रशासन की नाक के नीचे इस बालगृह की 57 लड़कियां कोरोना पाँजिटिव मिली। जिसका मतलब यह है कि बालगृह से सम्बंधित अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए सरकार, संविधान, नियम कायदा और मानवीय मूल्यों का कोई स्थान नहीं है। आम आदमी पार्टी के लोगों ने राज्यपाल से मांग की है कि पूरे मामले की जांच हाईकोर्ट की निगरानी ने एसआईटी के द्वारा करवाई जाये। तथा दोषी पाये जाने पर ऐसे लोगों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाई जाये।