कानपुर शूटआउट में जान गंवाने वाले 8 पुलिसकर्मियों का बिकरु गांव में बने स्मारक, हर साल उन्हें याद किया जाए

कानपुर: बिकरु गांव में दो जुलाई को सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गई थी। इस शूटआउट के मुख्य आरोपी विकास दुबे को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। मंगलवार को बुंदेली सेना ने बिकरु गांव में मृतक पुलिसकर्मियों की याद में बिकरु गांव में शहीद स्मारक बनाए जाने की मांग की है। दरअसल, बुंदेली सेना के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने मंगलवार को जिले की सीमा से लगे फतेहगंज थाना क्षेत्र में पहुंचकर दस्यु ठोकिया के साथ 13 साल पहले मुठभेड़ में मारे गए एसटीएफ के सात जवानों को श्रद्धांजलि दी।
बुंदेली सेना के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने बताया कि 22 जुलाई वर्ष 2007 को दस्यु ठोकिया ने घात लगाकर एसटीएफ जवानों पर धावा बोल दिया था l जिले की सीमा से सटे फतेहगंज थाना क्षेत्र के बघोलन में एसटीएफ के 7 कमांडों और एक ग्रामीण की मृत्यु हो गई थी l शहीद एसटीएफ जवानों और ग्रामीण की याद में बघोलन में शहीद स्थल बनाया गया है l
अजीत सिंह ने मांग की है कि 22 जुलाई को प्रतिवर्ष शहीद स्थल पर पुलिस के द्वारा श्रद्धांजलि का कार्यक्रम आयोजित किया जाए l शहीद स्थल को फूल-पौधे लगाकर सुंदर बनाया जाएl इसके अलावा रास्ते में बघोलन और बाण गंगा के दिशासूचक लगवाए जाने का भी अनुरोध प्रशासन से किया गया है l साथ ही कानपुर के बिकरु गांव में शहीद हुए पुलिस शहीदों की याद के लिए बिकरु गांव में ही शहीद स्थल बनवाए जाने की मांग सूबे के मुख्यमंत्री से की गई है l
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126