कोविड-19 को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अहम फैसला

लखनऊ, कानपुर में दो-दो तथा वाराणसी, प्रयागराज, बरेली, गोरखपुर और बहराइच में एक-एक अतिरिक्त आईएएस तैनात होंगे, वे जिलाधिकारी का सहयोग करेंगे

लखनऊ में 6300 से ज्यादा ऐक्टिव मरीज, वहीं कानपुर में सबसे ज्यादा मौतें हुईं

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में राजधानी लखनऊ और कानपुर कोरोना वायरस के नए हॉटस्पॉट के तौर पर उभरे हैं। लखनऊ में तो हालात बेकाबू हो चुके हैं और जिले में इस वक्त 6300 से ज्यादा ऐक्टिव मरीज हैं। वहीं कानपुर में प्रदेश में कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। इसको देखते हुए प्रदेश सरकार ने दोनों जिलों में विशेष सचिव स्तर के दो-दो अधिकारी और तैनात करने का फैसला लिया है।कोरोना के प्रसार पर नियंत्रण के लिए अब निजी अस्पतालों की भी मॉनिटरिंग होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने आवास पर समीक्षा बैठक में इसके निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सभी प्रयास जारी रखे जाएं।

कानपुर और लखनऊ में कोविड-19 के संक्रमण को कंट्रोल करने के लिए दो-दो विशेष सचिव स्तर के अधिकारी भेजे जा रहे हैं। इनका काम इन जिलों के डीएम को सहयोग करना होगा। इसके अलावा वाराणसी, प्रयागराज, बरेली, गोरखपुर और बहराइच में भी जिलाधिकारी को सहयोग करने के लिए विशेष सचिव स्तर का एक-एक अधिकारी तैनात किया जा रहा है।

बैठक में मुख्यमंत्री ने सभी जिलों में कोविड-19 को देखते हुए एल-2 और एल-3 कोविड अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए हैं कि इन अस्पतालों में आई.सी.यू. बेड के भी इंतजाम किए जाएं। साथ ही जिन निजी मेडिकल कॉलेजों में कोविड हॉस्पिटल बनाए गए हैं, वहां की व्यवस्थाओं की मॉनिटरिंग के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग एक कंट्रोलर अधिकारी तैनात करे।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126