कौशाम्बी में घट सकता था बिकरु जैसा काण्ड

दबिश देने गयी पुलिस दल पर कातिलाना हमला

पुलिस ने 9 आरोपियों के खिलाफ दर्ज की एफआईआर, अब तक दो महिलाओं समेत 3 लोग गिरफ्तार किए गए

उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले के सैनी थाना क्षेत्र के नरसिंगपुर कछुआ गांव में कड़ा धाम पुलिस की दबिश के दौरान हुए जानलेवा हमले में पुलिस ने गुरूवार को कार्यवाही करते हुए 9 लोगों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज किया है। पुलिस ने मामले में 2 महिला एवं युवक की गिरफ्तारी का दावा किया है। घटना के बाद गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है।

एसपी ने बताया प्रकरण में मुकद्दमा दर्ज कर आरोपितों की पहचान कर गिरफ्तारी की कार्यवाही की जा रही है। घायल दरोगा के आर सिंह व सिपाही दिलीप यादव जिला अस्पताल में इलाज किया जा रहा है, जिनकी हालत में सुधार हो रहा है।

एसपी अभिनन्दन ने बताया कि प्रकरण में पुलिस ने 9 लोगो के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कर अभियुक्तों की गिरफ्तारी की कार्यवाही की जा रही है। पुलिस ने अब तक आरोपित महिला फुलिया, इंद्रकली व् युवक रिंकू को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस पर हमला करने वाले आरोपितों के खिलाफ एनएसए के तहत कार्यवाही की संस्तुति कर दी गई है। घायल दरोगा व् सिपाही की हालत में सुधार हो रहा है।

आरोपित महिला बुधिया ने बताया, बुधवार की रात 9 बजे के करीब वह खाना खाकर उठे ही थे कि पुलिस घर पर पहुंच गई। दरोगा जी ने रिंकू को पूछा सामने आने पर उसे पकड़ लिया। बेटे को पुलिस ने पकड़ लिया तो उसने दरोगा जी से अपने लड़के को छोड़ने को कहा तो गाडी में बैठे सिपाही ने उसे गालियां देते हुए पैरों में पहने बूट से मार कर गिरा दिया। जिसे देख घर के लोग व ग्रामीण आक्रोशित हो गए और उन्होंने पुलिस पर हमला बोल दिया।

कौशांबी के सैनीपुर क्षेत्र के कछुआ गांव में घटना के बाद आज सन्नाटा दिखाई दिया। कुछ बच्चे ही गांव में बाहर टहलते नजर आए।
ग्रामीणों ने घेरकर दरोगा और सिपाही को बेहोश होने तक पीटा

मामला जिले के सैनी थाना क्षेत्र के नरसिंगपुर कछुआ गांव का है। कड़ा धाम कोतवाली के एसआई कृष्ण राय सिंह और सिपाही दिलीप यादव ने बुधवार रात करीब 9 बजे मुखबिर की सूचना पर यहां दबिश दी। यहां चोरी के आरोपी सिंटू को हिरासत में लिया। इससे गुस्साए आरोपी के परिजन और गांववालों ने उन पर लाठियों से हमला कर दिया।

घायल सिपाही दिलीप यादव ने बताया कि एसआई कृष्ण राय ने अपने बचाव में सरकारी पिस्टल निकाली, जिसे भीड़ में किसी ने छीन लिया। बेसुध होकर जब वे जमीन पर गिर गए, तब भीड़ ने उन्हें पीटना बंद किया।

इस हमले के कुछ घंटे के बाद एसआई की मौत की खबर सामने आई। लेकिन, एसपी अभिनंदन ने इसका खंडन किया। उन्होंने बताया कि एसआई का अस्पताल में इलाज चल रहा है। उनकी हालत नाजुक है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126