गायत्री प्रजापति की बेनामी संपत्ति पर चल सकता है योगी सरकार का हथौड़ा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कभी अखिलेश सरकार के मंत्री रहे गायत्री प्रजापति की मुश्किलें और बढ़ती नजर आ रही है. प्रजापति की कंपनी के पूर्व डायरेक्टर ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में सरकारी गवाह बनने के लिए ईडी को पत्र लिखा है. अभी यूपी में योगी सरकार द्वारा बेनामी सम्पत्तियों को सीज करने का अभियान चला हुआ है.इस दौरान अब गायत्री प्रजापति की बेनामी सम्पत्ति का मामला सामने आने पर अगला निशाना सपा नेता की सम्पत्ति को भी देखा जा रहा है.

2.5 करोड़ की जमीन को जबरन चित्रकूट रेप पीड़िता के नाम कराने का आरोप
हाल में ही ब्रज भवन दुबे ने एक एफआईआर दर्ज कराया है जिसमे उसने आरोप लगाया है कि गायत्री,उसके बेटे अनिल और उनके आदमियों ने दुबे के 2.5 करोड़ की जमीन को जबरन चित्रकूट रेप पीड़िता के नाम करा दिया.उसने आरोप लगाया कि उसके हस्ताक्षर जबरन कागजों पर लिए गए.

प्रजापति की बेनामी सम्पत्तियों की सारी जानकारी का दावा
दुबे ने कहा कि उसके पास प्रजापति की बेनामी सम्पत्तियों की सारी जानकारी है.वह किनके नामों पर खरीदी गई है,वो भी उसे मालूम है. दुबे ने कहा कि वह सरकारी गवाह बनने को तैयार है ,क्योंकि गायत्री ने जबरन उसकी जमीन पीड़िता को दे दी.

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126