जांच टीम के आने के पहले आरोपी कांग्रेस जिलाध्यक्ष पीड़ित युवतियों से फोन कर समझौते के लिए गिड़ गिड़ाया

अनिल शर्मा + संजय श्रीवास्तव + राकेश द्विवेदी
कांग्रेस जिलाअध्यक्ष अनुज मिश्रा का आडियो हुआ वायरल

जांच टीम के 5 मे से 3 सदस्य ही आए
उरई(जालौन): पीड़ित युवती बहनों द्वारा फोन पर अश्लील हरकतें करने वाले कांग्रेस के जिलाअध्यक्ष अनुज मिश्रा कि बीती 1 नवंबर को पूरी उरई शहर के स्टेशन रोड में सरेआम युवती बहनो द्वारा जूते चप्पलों से की गई पिटाई के मामले में बुधवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर बनी पांच सदस्यीय जांच टीम में से तीन सदस्यीय टीम जांच के लिए उरई स्थित पीडब्ल्यूडी के डाक बंगले में पहुंची। जांच टीम ने सबसे पहले कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अनुज मिश्रा जिनके विरुद्ध अश्लील व्यवहार करने के मामले में कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज है। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर कल जेल भेज दिया था। आज वह जेल से जमानत पर छूटकर आए। इसी कारण जांच कमेटी जो कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राहुल राय के नेतृत्व में आयी थी जिसमें 5 में से तीन सदस्य आए ने सबसे पहले आरोपी और कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अनुज मिश्रा के बयान लिए। इसके बाद उन्होंने दोनों पीड़ित युवतियों बहनों के बयान लिए और यह जानने की कोशिश की कि आखिर ऐसी स्थिति क्यों आयी। लेकिन जेल से छूटने के बाद कल रात ही कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अनुज मिश्रा ने जिस तरह से पीड़ित बहनों को देर रात फोन करके फोन पर गिड़गिड़ा कर माफी मांगते हुए इस मामले को खत्म करके समझौता करने के लिए मिन्नत की। ऑडियो वायरल हो जाने के बाद जांच टीम के आने और जांच करने का औचित्य ही खत्म हो गया। मालूम हो कि बीती 1 नवंबर को दो बहनों माया सिंह और बरसात सिंह ने सरेआम दोपहर में फोन पर अश्लील हरकतें करने वाले कांग्रेस जिलाध्यक्ष अनुज मिश्रा को रेलवे स्टेशन रोड पर बुलाकर सड़क पर ही सरेआम जिस तरह से जूते और चप्पलों से जमकर पीटा था। उनकी टीशर्ट और बनियान फाड़ दी। इस मामले की गूंज जब लखनऊ और दिल्ली पहुंची तो कांग्रेस हाईकमान ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू से तत्काल इस मामले में कार्रवाई करने का निर्देश दिया। जिसके चलते कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आनन-फानन में इस मामले की जांच के लिए 5 सदस्य टीम गठित कर उसे 24 घंटे में उरई जाकर जांच करने के बाद रिपोर्ट प्रदेश अध्यक्ष यानी उन्हें देने के निर्देश दिए थे। लेकिन 3 नवंबर को आरोपी व कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अनुज मिश्रा के जेल में होने के कारण यह टीम नहीं आई। लेकिन जब यह टीम आज दोपहर जब लगभग 1.00 बजे उरई के डाक बंगले में आई तो उसने पांच की जगह सिर्फ 3 सदस्य ही थे। इन सदस्यों में कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राहुल राय, उत्तर प्रदेश किसान कांग्रेस के बुंदेलखंड जोन के चेयरमैन शिवनारायण परिहार कामा एवं रंजना बराती लाल मानिकपुर थे। जब कि दो अन्य सदस्य पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य, उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस दक्षिण जॉन की अध्यक्ष प्रतिभा अटल पाल अज्ञात कारणों के चलते इस जांच टीम के साथ नहीं आ पाए। जांच टीम ने सबसे पहले आरोपी और कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अनुज मिश्रा के बयान लिए। उसके बाद दोनों पीड़ित बहनों माया सिंह और वर्षा सिंह के बयान लिए जब दोनों बहनों ने कल रात अनुज मिश्रा का गिढ़ गिढ़ाते हुए माफ करने और समझौता करने का ऑडियो जांच समिति को सौंपा तो वहां उपस्थित तमाम कांग्रेसी नेता यह कहते नजर आए कि जब इतनी सब घटनाएं हो गई थी तो जिलाअध्यक्ष अनुज मिश्रा को जांच टीम का इंतजार करना चाहिए था। उन्होंने जिस तरह से जांच टीम आने के पहले ही मोबाइल पर बीती रात पीड़ित बहनों से गिड़गिड़ा कर माफी मांगी और समझौता करने की मिन्नत की। उससे उन्होंने जांच टीम की अहमियत ही खत्म कर दी। पत्रकारों द्वारा जांच टीम से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि वह अपनी रिपोर्ट कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को सौंपेंगे। बहराल कांग्रेस नेतृत्व के सामने बहरहाल अब कांग्रेस नेतृत्व के सामने जिलाध्यक्ष अनुज मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई करने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है। इसके चलते कांग्रेस जिला अध्यक्ष के ऊपर कठोर कार्रवाई की तलवार लटक गई है। जांच टीम ने मीडिया से बात नहीं की।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126