जिला विद्यालय निरीक्षक ने किया था मीडियाकर्मियों को गुमराह, पूर्व में नाथूराम पुरोहित इंटर कॉलेज की शिक्षिका द्वारा लॉकडाउन मे शुल्क वसूली की खबर का यंग भारत ने किया खंडन

कोंच: बताते चलें कि लॉकडाउन के समय विद्यालयों में चल रही शुल्क बसूली को लेकर कई अभिभावकों ने द यंग भारत के संवाददाता को जानकारी दी थी तो उन्होने तत्काल जिला विद्यालय निरीक्षक से फोन द्वारा जानकारी मांगी तो उन्होने किसी प्रकार की शुल्क जमा न करने अर्थात फीस माफी की बात कही थी जिसके आधार पर द यंग भारत में शिक्षिका के फीस बसूली को लेकर खबर लगाई गई थी l जब द यंग भारत की टीम विस्तृत जानकारी एवं सच्चाई की पड़ताल करने विद्यालय पहुंची तो वहां मौजूद विद्यालय की प्राचार्या एवं शिक्षिका संगीता मैम ने शासन द्वारा प्राप्त लिखित पत्र दिखाते हुए बताया कि विद्यालय में शासन के आदेशानुसार ही शुल्क ली जा रही है l जिससे स्पष्ट हो गया था कि शिक्षिका महोदया संगीता मैम अपने कर्तव्य का पालन सही एवं ईमानदारी से कर रही है अर्थात द यंग भारत के द्वारा जो खबर पूर्व में लगाई गई थी वह निराधार साबित हुई और जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा मीडिया को गुमराह किया गया था जिसकी पुष्टि जिला विद्यालय निरीक्षक ने द यंग भारत की टीम को प्रेसवार्ता के दौरान अपनी गलती को स्वीकार कर की l