जिसकी शिकायत उसी को विभाग ने बनाया जांच अधिकारी

शिकायतकर्ता को कैसे मिलेगा न्याय

उरई (जालौन)। विकासखंड महेबा ब्लाक के गांव चुर्खी में बनी ग्रामीण पेयजल परियोजना के टंकी की पाइप लाइन को घटिया पाइप बिछाकर लाइन डालने व गाव की सडको की खोदी गई सी सी रोड का काम न कराने पर गांव निवासी के सी त्रिपाठी ने लोकायुक्त लखनऊ सिकायत की गई थी ।उसी के तहत शुक्रवार को तीन सदस्सीय जांच टीम ने जाकर चुर्खी गांव में जांच की ।
चुर्खी गांव निवासी के पी त्रिपाठी ने गांव की पेयजल ब्यवस्था खराब होने पर जल निगम के अधिकारियों के ऊपर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुऐ प्रार्थना पत्र दिया था कि हमारे गांव की पेयजल परियोजन की पाइप लाइन का काम ठीक से न करवाना गाव की मलिन वस्ती में पानी की आपूर्ति न होने के साथ साथ अन्य बिन्दुओं पर सिकायत की थी तो उसी के क्रम में मुख्य विकास अधिकारी ने तीन सदस्सीय जांच टीम का गठन किया था और उसी का नोडल जांच अधिकारी डी डीओ मिथलेश सचान को बनाया था ।तो उसी के क्रम में शनिवार को महेबा बीडियो अश्वनी कुमार एडियो पंचायत हरेन्द्र सिंह सहित जांच टीम के सदस्य जेई जल निगम अजय वर्मा जेई एम आई अखलेश वर्मा अधिशाषी अभियन्ता जल निगम ओमवीर सिह चुर्खी गांव पहुंचे और गांव के जूनियर हाई सुकूल पर चौपाल लगाई ।इसके बाद सिकायत कर्ता के पी त्रिपाठी के समक्छ सारे बिन्दुओं को पढ कर सुनाया गया इसके बाद गांव की गलियों सहित पाइप लाइन का निरीछण किया तो सिकायत कर्ता की सिकायतें ज्यादातर सही पाई गई ।पर यहां तो वही हाल देखने को मिला कि जब सईयां है कोतवाल तो फिर डर काहे का ।सब कुछ गडबड मिलने के बाबजूद डी डीओ सहित जलनिगम अधिकारी से लेकर ब्लाक स्टाप सरकारी बकालत करते नजर आये।