जिस विकास दुबे को पुलिस ने गोलियों से छलनी कर मारडाला धूर्त अपराधी उसके खौफ को कैश करा रहे हैं आजतक

मैं विकास दुबे का साथी हूं, अपनी पत्नी को ले जाओ

कानपुर: जनपद के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे भले ही एनकाउंटर में मारा गया हो, लेकिन अपराधियों के जहन में विकास दुबे आज भी जिंदा है. ऐसा ही एक मामला कानपुर के गोविंदनगर क्षेत्र में सामने आया है. दरअसल, गोविंदनगर निवासी एक फौजी को अज्ञात व्यक्ति ने फोन के माध्यम से जान के मारने की धमकी दी है. पीड़ित फौजी ने इसकी शिकायत गोविंदनगर थाने में की है. फिलहाल पुलिस मामले को संज्ञान में लेकर छानबीन में जुट गई है.

पीड़ित फौजी दबौली का रहने वाला है, वर्तमान में वह नागालैंड में तैनात है. फौजी इन दिनों छुट्टी पर आया है, उसका अपनी पत्नी से आपसी विवाद चल रहा है. हाल ही में एक अज्ञात व्यक्ति ने फौजी को फोन करके कहा कि वह विकास दुबे का मित्र है. उसने कोर्ट में घुसकर अधिकारी की हत्या की थी. अज्ञात व्यक्ति द्वारा कहा गया कि अपनी जान की सलामती चाहते हो तो पत्नी को साथ ले जाओ. जिसके बाद फौजी ने इसकी तहरीर पुलिस को दी. बताते चलें कि बीते दिनों एक कोचिंग सेंटर चालक को धमकी देकर रंगदारी मांगने का मामला सामने सामने आया था. जिसमें आरोपी ने खुद को गैगस्टर विकास दुबे का भाई बताया था.

जिसके बाद जूही थाना पुलिस ने धमकी देने वाले आरोपी दीपेंद्र उर्फ राम ठाकुर को गिरफ्तार किया था. एसएसपी डॉ. प्रीतिंदर सिंह ने कहा कि अपराधियों का नाम का इस्तेमाल करके धमकाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. किसी अपराधी के नाम से धमकी देना जघन्य अपराध है. पहले भी जूही थाना क्षेत्र में एक युवक धमकी देकर एक कोचिंग सेंटर चालक से पैसे मांगे थे.

उसके खिलाफ कार्रवाई करके आरोपी को जेल भेजा गया था, इस मामले में भी कठोर कार्रवाई की जाएगी. इस तरह की घटनाएं आगे न हों इसके लिए लोगों को चौकन्ना रहने की जरूरत है. धमकी देने वालों का अगर अपराधियों के साथ कोई कनेक्शन है तो और अधिक सख्त कार्रवाई की जाएगी.

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126