जीआरपी ने चलती ट्रेन में चोरी करने वाले शातिर चोर को गिरफ्तार किया

बृज मोहन निरंजन

उरई। आज जीआरपी थाना पुष्पक एक्प्रेस में विकलांग कोच में सवार एक शातिर चोर को गिरफ्तार किया। तलाशी लेने पर उसके पास चोरी का एक एंड्रायड मोबाइल बरामद किया। पूछताछ के दौरान उसने कई चोरियां कबूल की हैं। जीआरपी थाना उरई के उपनिरीक्षक जयलाल ने आज शनिवार केा यंग भारत को बताया कि मुखबिर की सूचना पर वे गाड़ी नम्बर 02533 पुष्पक कोविड 19 सुपरफास्ट में वे हेड कांस्टेबिल नरेन्द्र चतुर्वेदी, कांस्टेबिल अजय आर्या के साथ बोगियों की चेकिंग कर रहे थे। विकलांग कोच की चेकिंग के दौरान एक व्यक्ति संदिग्ध हालत मे दिखा। पुलिस के टोकने पर उरई में गाड़ी रुकते ही उतर कर अचानक कानपुर की ओर भागने लगा। उसे पुलिस ने दौड़ाकर प्लेटफार्म नम्बर 1 के पेयजल नल के पास पकड़ लिया।
पूछताछ में उसने अपना नाम कृपाल पुत्र अवधेष यादव (20) निवासी मीरनगर, थाना मल्लावां, जिला हरदोई बताया। पुलिस ने जब उसकी तलाषी ली तो उसके पेण्ट की जेब से कीमती स्मार्ट फोन सेगसंग ए50 काले रंग का चालू हालत में बिना सिम के मिला। जोकि थाने मे मुकदमा अपराध संख्या 5 2020, धारा 379 आइपीसी से संबंधित है। पूछताछ में पुलिस को पता चला कि कृपाल शातिरा चोर है। वह चलती गाड़ियों में लोगों का कीमती सामान अटैची मोबाइल पर्स आदि चुराता है। कृपाल ने स्वीकार किया कि वह मोबाइल उसने लोकमान्य अप गाड़ी नम्बर 1208 लखनऊ एलटीटी की बोगी नम्बर 12 की बर्थ नम्बर 20 से 03 जनवरी, 2020 केा चुराया था। मोबाइल के मालिक अजमल ताजुद्दीन लधा उम्र 62 निवासी ओसिवरा, अंधेरी ईस्ट ने कुरला जीआरपी थाना मुंबई में यह रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उसका 20000 कीमत का स्मार्ट फोन 03 जनवरी, 2020 को लोकमान्य तिलक की लखनऊ मुबई गाड़ी में कानपुर से जैसे ही गाड़ी मुंबई के लिए रवाना हुई तो उस समय सुबह के 3ः45 हुए थे। वे मोबाइल को चार्जिंग में लगाकर सो गए। जब झांसी स्टेषन में जागे तो मोबाइल चोरी हो चुका था। जीआरपी उपनिरीक्षक ने बताया कि इस मामले में मालिक को सूचना भेज दी गई है तथा चोर को जेल भेजा जा रहा है।