डीएम की अनोखी पहल, पराली के बदले दे रहे ये

कानपुर देहात: उन्नाव के बाद अब कानपुर देहात में भी जिला प्रशासन ने अनोखी पहल शुरू की है. इसके तहत पराली देने वाले किसानों को बदले में खादी ग्रामोद्योग भंडार का एक धोती-कुर्ता, कम्बल और टोपी पहनाकर सम्मानित किया जा रहा है. जिला प्रशासन ने पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए इस अभियान की शुरुआत की है.
अनोखे अभियान की शुरुआत
जिला प्रशासन ने कृषि विभाग के साथ मिलकर एक अनोखा अभियान शुरू किया है. इसके तहत जनपद के जिलाधिकारी दिनेश चंद्र ने किसानों से निवेदन किया है कि वह पराली लेकर जिले के अधिकारियों के पास आएं. उस पराली को पास की गोशाला में दे दिया जाएगा. पराली लाने वाले किसानों को एक धोती-कुर्ता और कम्बल और टोपी देकर सम्मानित किया जाएगा. किसानों को पुआल की समस्या से निबटने के लिए पराली को खेत में ही जलाना पड़ता है. हर साल जलने वाली पराली अब गोशालाओं में रहने वाले पशुओं के लिए चारा बनेगी.

जिला प्रशासन को 500 मीट्रिक टन पराली दान
जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चंद्र ने कहा कि सूबे के मुख्यमंत्री की प्रेरणा से गोवंशों के लिए जनपद के किसानों से दान स्वरूप पराली मांगी गई है. किसानों ने मंगलवार को 500 मीट्रिक टन पराली जिला प्रशासन को दान की है. पराली देने वाले किसानों को एक धोती-कुर्ता, कम्बल देकर और टोपी पहनाकर सम्मानित किया गया है.

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126