दलित दुष्कर्म पीड़िता को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया, पीड़िता की दिल्ली के अस्पताल में मौत, तीन गिरफ्तार

बुलंदशहर: अनूपशहर क्षेत्र में बीते दिन गैंगरेप पीड़िता की आत्महत्या के बाद मंगलवार को जहांगीराबाद क्षेत्र में एक दलित रेप पीड़ित किशोरी को घर में घुसकर पेट्रोल डालकर जिंदा जलाने की घटना से हड़कंप मच गया। शाम को गंभीर हालत में पीड़िता ने दिल्ली के अस्पताल में दम तोड़ दिया। आरोपी पक्ष दुष्कर्म पीड़िता पर फैसले का दबाव बना रहा था, जिससे वह आहत थी। पीड़ित पक्ष ने एक महिला समेत सात आरोपियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने लापरवाही पर जहांगीराबाद कोतवाल विवेक शर्मा को लाइन हाजिर कर दिया है और हल्का दरोगा विनयकांत गौतम और बीट कांस्टेबिल विक्रांत तोमर को निलंबित कर दिया है।
जहांगीराबाद क्षेत्र के एक गांव की किशोरी के साथ 14 अगस्त 2020 को दुष्कर्म की घटना हुई थी। मामले में पुलिस ने नामजद आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वर्तमान में भी आरोपी जेल में बंद है। आरोप है कि घटना के बाद से ही पीड़ित पक्ष पर आरोपी पक्ष द्वारा फैसले के लिए दबाव बनाया जा रहा था। मंगलवार सुबह परिजनों ने किशोरी को आग की लपटों में घिरे हुए देखा। परिजनों ने जैसे-तैसे आग पर काबू पाया। तब तक किशोरी बुरी तरह झुलस गई थी। उसे स्थानीय अस्पताल से जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां से उसकी हालत नाजुक देखते हुए दिल्ली रेफर कर दिया गया। घटना की सूचना मिलते ही एसपी देहात हरेंद्र कुमार, सीओ अनूपशहर अतुल चौबे, डिबाई सीओ वंदना शर्मा आदि मौके पर पहुंच गए। शाम को दिल्ली के अस्पताल में पीड़िता ने दम तोड़ दिया।
पेट्रोल डालकर जलाने का आरोप
पीड़िता के पिता ने तहरीर देकर बताया कि आरोपी पक्ष की एक महिला समेत सात लोगों द्वारा घर में घुसकर पेट्रोल डालकर उसकी पुत्री को जिंदा जला दिया। कोतवाली पुलिस ने तहरीर के आधार पर आरोपी संजय, काजल पत्नी संजय निवासीगण गांव धामनी, बनवारी, बदन सिंह, वीर सिंह, जसवंत व गौतम सिंह निवासी गांव सिद्धनगला के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। शाम को आरोपी बनवारी, बदन सिंह, वीर सिंह निवासी गांव सिद्धनगला थाना जहांगीराबाद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।
प्रारंभिक जांच के अनुसार दुष्कर्म पीड़िता द्वारा आत्मदाह का प्रयास किया गया। दुष्कर्म का आरोपी अभी भी जेल में हैं। आरोपी के चाचा एवं एक बाग मालिक द्वारा समझौते का दबाव बनाया गया। तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है। तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
संतोष कुमार सिंह, एसएसपी
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126