दिल्ली, राजस्थान और महाराष्ट्र के बाद यूपी के भी कई शहरों में दिवाली पर पटाखा जलाने पर लगा बैन

लखनऊ: राज्य सरकार प्रदेश के 15 शहरों में पटाखों की बिक्री और उसके इस्तेमाल पर रोक लगाने जा रही है। इनमें एनसीआर, आगरा, प्रयागराज, अनपरा, बरेली, फिरोजाबाद, गजरौला, गाजियाबाद, झांसी, कानपुर, खुर्जा, लखनऊ, मुरादाबाद, नोएडा, रायबरेली व वाराणसी शामिल हैं। प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी ने बताया कि एनजीटी के आदेश पर यह कार्रवाई की जा रही है। आदेश जल्द जारी कर दिए जाएंगे।
अतिरिक्त मजिस्ट्रेट आगरा अजय तिवारी ने बताया कि एनजीटी के आदेश के अनुपालन में कोई पटाखा फोड़ने की अनुमति नहीं होगी। सभी पुलिस स्टेशनों को आदेश के उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के लिए कहा गया है।
आगरा के डीएम प्रभुनाथ सिंह ने कहा कि हम सरकारी आदेशों का इंतजार कर रहे हैं, जब तक आदेश नहीं आता हैं तब तक पटाखा दुकान के लिए कोई नया लाइसेंस जारी नहीं किया रहा है।
लखनऊ के संयुक्त पुलिस आयुक्त नवीन अरोड़ा ने कहा कि कुछ पटाखों पर बैन लगाया गया है। दीपावली के दिन या गुरुपर्व जैसे किसी अन्य त्योहारों पर आतिशबाजी केवल रात 8  से रात 10 बजे के बीच की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा ,जिला प्रशासन ने शहर में नो क्रैकर जोन भी बनाया है, जिसमें अस्पताल, नर्सिंग होम, शैक्षणिक संस्थानों, न्यायालय और प्राणि उद्यानों के पास 100 मीटर क्षेत्र के भीतर पटाखों के उपयोग को प्रतिबंधित किया गया है।
इन राज्यों में भी पटाखों का  बैन
दरअसल तेजी से बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सोमवार को पटाखों को लेकर दिशा निर्देश जारी किया। पूरे एनसीआर में पटाखों जलाने और बिक्री पर पूरी तरह से 30 नवंबर तक बैन कर दिया। इससे पहले  दिल्ली ने प्रदूषण के कारण तो राजस्थान, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में कोरोना वायरस के कारण  पटाखों पर बैन लगाने की घोषणा की है।
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने कि राज्य सरकार कोरोना के चलते दीपावली के दौरान पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने के आदेश जारी किया।नयेदियुरप्पा ने कहा कि हमने इस पर चर्चा की (पटाखा प्रतिबंध), हम दीपावली के दौरान पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कर रहे हैं। सरकार जल्द ही इस आशय का आदेश जारी करेगी।
वहीं, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले सोमवार को ट्वीट कर जानकारी थी कि उनकी सरकार ने कोविड -19 रोगियों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए और साथ ही पटाखों से निकलने वाले जहरीले धुएं से जनता को बचाने के लिए पटाखों की बिक्री और फटने पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126