द यंग भारत की खबर का तत्काल हुआ असर

डीएम ने डिकौली गौशाला की दुर्दशा पर डीपीआरओ को सौंपी जांच
डीपीआरओ अभय यादव ने तत्काल डिकौली जाकर गौशाला की बारीकियां परखीं
प्रत्यक्ष दर्शियों के अनुसार बेहद दुर्दशाग्रस्त है गौशाला, कई गायें मरणासन्न
‘द यंग भारत’ की खबर की सत्यता की हुई पुष्टि
डीपीआरओ शुक्रवार को डीएम को सौंपेंगे अपनी जांच रिपोर्ट
अनिल शर्मा+संजय श्रीवास्तव+डॉ. राकेश द्विवेदी
उरई: माधोगढ़ तहसील के अंतर्गत स्थित डिकौली गौशाला में देखभाल न होने और भ्रष्टाचार व्याप्त होने से तड़प तड़प कर दम तोड़ती गायों की स्थिति से क्षुब्ध ग्रामीणों और गौशाला संचालक एवम उसके गुर्गों के बीच जब विवाद हो गया। तो यह दर्दनाक जानकारी पूरे जनपद मे फैल गयी थी।
गौशाला और गायों की दुर्दशा पर सह प्रान्त संयोजक गौशाला विभाग विक्की परिहार ने अपने समर्थकों के साथ जिलाधिकारी डॉ. मन्नान अख्तर, अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार को ज्ञापन देकर गौशाला की जांच कराकर कठोर कार्यवाही करने संबंधी ज्ञापन बुधवार को सौंपे थे। जिसको अत्यंत गंभीरता से लेते हुए डीएम डॉ. मन्नान अख्तर ने डीपीआरओ अभय यादव को एक-एक बिंदु की जांच करने के आदेश दिए। तथा उन्हें अगले दिन गुरुवार को ही गौशाला जाने को कहा। जिसके पालन में डीपीआरओ आज दिनांक 04/06/2020 को डिकौली स्थित गौशाला पहुंचे। उन्होंने गौशाला का निरीक्षण किया। जो उन्हें वास्तव में दुर्दशा ग्रस्त मिली। कई गायों की हालत बेहद नाजुक पाई गई। डीपीआरओ ने ग्रामीणों से मिलकर भी बातचीत की तो उन्हें ग्रामीणों ने बताया कि जब हम लोगों ने गौशाला में गायों के मरने और उनको खाना, दावा आदि का इंतेज़ाम न होने पर आपत्ति उठायी। तो गौशाला संचालक पुरषोत्तम तिवारी और उनके साथियों ने ग्रामीणों से झगड़ा किया। ग्रामीणों का आरोप है कि अब गौशाला में 75 के लगभग गौवंश हैं। जबकि कल तक इनकी संख्या ज्यादा थी। स्वयं गौशाला के करता धर्ताओं ने गायों को गौशाला से भगा दिया। तथा हमलोगों पर गायों को भगा देने का झूठा आरोप लगा दिया। डीपीआरओ अभय यादव ने पूरी सूझ-बूझ और धैर्य के साथ दोनो पक्षों के बीच लड़ाई शांत कराई।
दिनांक 05/06/2020 को डीपीआरओ जिलाधिकारी डॉ. मन्नान अख्तर को अपनी जांच रिपोर्ट सौपेंगे। जिसपर जिलाधिकारी अपने स्तर से कार्यवाही करने का काम करेंगे। मालूम हो कि 02/06/2020 को द यंग भारत न्यूज़(वेब पोर्टल) ने उपरोक्त के संदर्भ मे खास न्यूज़ को प्रसारित किया था। इस संवेदनशील मुद्दे का तत्काल संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी डॉ. मन्नान अख्तर ने अविलंब जांच कराई।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126