नाबालिग दलित 17 वर्षीय किशोरी की गैंग रेप कर हत्या कर देने की आशंका

किशोरी को हैवानियत निगल गयी और केस को थाना पुलिस
पीड़ित परिवार ने एसपी ऑफिस आकर बताई जुल्मों की दास्तान
कालपी क्षेत्र के चुर्खी थाना पुलिस पर लगाये जबरदस्त उत्पीड़न के बड़े-बड़े आरोप

उरई(जालौन): जनपद के नए पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश होकर अपने ऊपर हुए जुल्म की दास्तान बताकर मदद की गुहार लगाने आये परिजनों ने यंग भारत को बताई उत्पीड़न की लोमहर्षक घटना।

जनपद के चुर्खी थाना अंतर्गत ग्राम बिनौरा वैद्य के निवासी दलित मलखान सिंह पुत्र रामगोपाल ने आंखों में आंसू भरकर वारदात और उत्पीड़न की जो श्रृंखला बताई वह हिला देने वाली है। उनका आरोप है कि उनकी नाबालिग पुत्री आक्रतिदेवी(काल्पनिक नाम) जिसकी जन्मतिथि 27/08/2003 है को 30/06/2020 को समय 9 रात्रि, गांव के मयंक उर्फ गोलू पुत्र किजेन्दर भुर्जी व शिवम पुत्र रवि बहला फुसलाकर ले गए थे। जब वो रिपोर्ट करने रात्रि में थाना चुर्खी पहुंचा तो वहां पर मौजूद एस०ओ०जी० व पुलिस वालों ने उसके द्वारा घटना की सत्यता बताने के बावजूद उस पर दबाव बनाकर गलत रिपोर्ट मु०अ०सं० 0047/2020 अंतर्गत धारा 306, 366 आई०पी०सी० व 3(2) (v) एस०सी०एस०टी० एक्ट के अंतर्गत थाना चुर्खी में दर्ज कर ली, तत्पश्चात 01/07/2020 को आक्रतिदेवी(काल्पनिक नाम) की लाश ग्राम मुसमरिया थाना चुर्खी में पुलिस को मिली थी। चूंकि अभियुक्तगण प्रभावशाली व ऊंची पहुंच वाले हैं जिसके कारण मलखान के सत्य कथन को नहीं सुना गया। इसके पश्चात 05/07/2020 को उसके व उसके लड़के मुकेश पत्नी मीना, साला राजाभइया तथा भतीजा भोला पुत्र लखन को बयान के लिये सी०ओ० कालपी व थाना चुर्खी की पुलिस, पुलिस लाइन उरई ले गयी। वहां पर सादा ड्रेस में मौजूद पुलिस कर्मियों ने सभी की मारपीट की तथा करीब 06 दिन तक थाने में रखा एवं हर रात को पुलिस वाले उन सभी को पुलिस लाइन उरई के जाते थे और बेल्टों व पट्टा से मारते थे तथा गुप्तांगों में पेट्रोल डालकर कहते थे कि तुम लोगों ने ही अपनी पुत्री को मारा है। मना करने पर मारते थे और 10/07/2020 को रात्रि 11 बजे पुलिस लाइन उरई में कथित पुलिस वालों ने मलखान के बेटे मुकेश की इतनी अधिक मारपीट की कि उसके कान का पर्दा फट गया। तब 11/07/2020 को उन सभी को थाने से यह कहकर छोड़ दिया कि यदि कहीं शिकायत की तो मुठभेड़ दिखाके सभी जनों को जान से मार देंगे। उनका आरोप है कि तब से उनके घर के बाहर एक दीपक नाम का पुलिस वाला व एक होमगार्ड बैठे हुए हैं और घर से नहीं निकलने दे रहे हैं। वे लोग किसी तरह घर से बाहर निकलकर पुलिस अधीक्षक के पास आये हैं। और उनका करबद्ध प्रार्थना है कि आरोपियों के विरुद्ध सही दफाओं में मुकदमा करके कठोर कार्यवाही करें। तथा परिजनों की रक्षा करने की कृपा करें।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126