नोडल अधिकारी ने पशुधन संस्थाओं एवं गौआश्रय स्थलों का किया निरीक्षण

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. वी. पी.सिंह ने भी पशुपालकों को बताये उपाय

उरई (जालौन)। उत्तर प्रदेश शासन द्वारा नामित नोडल अधिकारी डा. अनिल कुमार शर्मा संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग लखनऊ ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. वी. पी. सिंह, उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. सुरेंद्र सिंह एवं उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. बृजेश सचान के साथ जनपद भ्रमण के दूसरे दिन पशुधन संस्थाओं (राजकीय पशु चिकित्सालय डकोर, राजकीय पशु चिकित्सालय एट, राजकीय पशु चिकित्सालय उरई सदर, पशु सेवा केन्द्र कोटरा तथा स्थाई गौवंश आश्रय स्थल मोहाना, अस्थाई गौवंश आश्रय स्थल जीआईसी मैदान उरई, अस्थाई गौवंश आश्रय स्थल कुईयां, अस्थाई गौवंश आश्रय स्थल कोटरा तथा अस्थाई गौवंश आश्रय स्थल मकरैछा का निरीक्षण कर वहां की ब्यवस्थाओ को गम्भीरता के साथ देखा। नोडल अधिकारी श्री शर्मा ने मुख्य विकास अधिकारी तथा जिलाधिकारी से भेंट कर कृत कार्य से अवगत कराते हुए उनका उपयोगी मार्गदर्शन भी प्राप्त किया। नोडल अधिकारी ने डकोर क्षेत्र के ग्राम मोहाना में ग्रामवासियों के साथ बैठक की और बारिश के मौसम में पशुओं को होने वाले रोग और बचाव के बारे में विस्तार से बताया। बैठक में मौजूद मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. वी. पी. सिंह ने उपस्थित ग्रामीणों को सलाह दी कि वह अपने पशुओं को लावारिस न छोड़े तथा पशुओं के गोबर तथा गौमूत्र से उपयोगी जैबिक खाद (कम्पोस्ट) बनाने का तरीका भी बताया इसके साथ ही शत प्रतिशत पशुओं के टीकाकरण करवाये जाने की सलाह पशु पालकों दी इसके अलावा पशु पालन हेतु किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए प्रेरित किया। अंत में नोडल अधिकारी ने कृत्रिम गरभाधान सुविधाओं तथा टीकाकरण सुविधाओं की वास्तविक स्थिति का भी जायेजा लिया। कार्यक्रम के दौरान प्रमुख रूप से डा. संतोष राजपाल पशु चिकित्साधिकारी, डा. आर. एस. राजपूत सहित आदि विभागीय लोग मौजूद रहे।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126