पाक्सो एक्ट में दर्ज हो गया दलित बालिका से छेड़खानी का मुकदमा

गांव के सामंतवादी रिपोर्ट दर्ज न होने का बना रहे थे दबाव

5 दिन के बाद हो सकी कार्यवाही

उरई: जनपद के कोंच कोतवाली क्षेत्र के ग्राम परेथा निवासी 11 वर्षीय दलित बालिका जब खेतों पर बकरियाँ चराने गयी थी। तभी गांव के ही दबंग राकेश निरंजन उम्र 58 वर्ष ने बालिका को पैसे देकर बहलाया एवं उसे आड़ में ले गया। तथा न समझ बालिका के कपड़े उतारकर उसके साथ अश्लील हरकतें और छेड़खानी करने लगा। बालिका घबरा गई और भागकर घर पहुंची एवम माँ बाप को पूरी घटना बताई। तबतक आरोपी वहीं पर अपने कुछ साथियों के साथ आ गया। तथा बालिका के माता पिता को जान से मारने की धमकी देने लगा। पीड़ित नाबालिग का पिता शिकायत पत्र लेकर 25/05/2020 को कोतवाली कोंच पहुंचा तो उसे पुलिसिया लटकों-झटकों का सामना करना पड़ा। तथा उसकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। इसके पीछे बताया जाता है कि आरोपी राकेश निरंजन ने इस बात के लिए अपने पूरी ताकत एवम पैसा भी दांव पर लगा रखा था कि उसके विरुद्ध किसी भी हालत में रिपोर्ट दर्ज न होने पाए। वादी अपनी पुत्री के साथ हुई घटना की रिपोर्ट दर्ज कराने हेतु अपने परिजनों के साथ अधिकारियों के चक्कर लगाता रहा। तथा मीडिया ने भी उसके साथ हुए अन्याय को मुखरता के साथ उछाला। तब कहीं जाकर पुलिस के उच्च अधिकारियों ने इस अन्याय पूर्ण अपराध का संज्ञान लिया। जिसके फलस्वरूप आज राकेश निरंजन के विरुद्ध कोंच कोतवाली में धारा 504, 506 तथा 7/8 पाक्सो एक्ट व दलित उत्पीड़न एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया।