प्रदेश में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या से चिंतित मुख्यमंत्री ने टीम 11 के साथ की आपात बैठक

कोविड-19 के बेशुमार बढ़ते केसों से निपटने की बनाई रणनीति
एका एक बड़े कोरोना केसों से प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग परेशान, जनता भयभीत

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 11 वरिष्ठ आईएएस की कोरोना से निपटने के लिए जो टीम गठित की है। उन्होंने उक्त टीम के साथ एक आपात बैठक करके आवश्यक और कड़े दिशा निर्देश दिए।

सारे सरकारी प्रयासों के बावजूद कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मुख्यमंत्री ने नियमों का कड़ाई से पालन करने का आदेश दिया। उन्होंने टेस्टिंग की क्षमता को भी लगातार बढ़ाये जाने के कड़े निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने अपने 11 सदस्यीय वरिष्ठ आईएएस सलाहकारों से बार-बार कहा कि किसी भी स्थिति में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जाना चाहिए। इस हेतु वे लोग जिलों से सघन संपर्क रखकर निरंतर स्थितियों पर नजर रखें। और सरकार द्वारा दिये गए निर्देशों का सख्ती से पालन करवाएं।

उल्लेखनीय है कि तमाम सरकारी प्रयासों के बावजूद कोरोना संक्रमण प्रदेश में थमने का नाम नही ले रहा है। जहां पूरे देश मे 11 लाख के लगभग कोरोना मरीजों की संख्या पहुंच चुकी है। वहीं प्रदेश में यह संख्या लगभग 48 हजार पर पहुंच गई है। यहां यह गौरतलब होगा कि मरीज ठीक भी तेजी से हो रहे हैं। मगर कोविड की की जाने वाली जांचों की रफ्तार यूपी में बहुत धीमी है। यदि मुख्यमंत्री के अधिक से अधिक जांचें कराने के आदेश का पूरी तरह से पालन किया जाए और अधिक से अधिक जांचें की जाएं। तो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या एक बड़े आंकड़े तक पहुंच सकती है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126