प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से बनाया फर्जी ट्रस्ट, दस के खिलाफ मुकदमा

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम पर उनके संसदीय क्षेत्र में फर्जी ट्रस्ट बनाकर ठगी का मामला सामने आया है। ‘आदर्श नरेंद्र दामोदर दास मोदी जनकल्याणकारी ट्रस्ट’ के नाम से फर्जी कागजात के आधार पर 14 जुलाई को पंजीकरण कराया गया। जांच में गड़बड़ी मिलने पर गुरुवार देर शाम उप निबंधक सदर द्वितीय हरीश चतुर्वेदी ने मुख्य प्रबंधक ट्रस्टी समेत 10 के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया।
तहरीर में बताया है कि भेलूपुर थाना क्षेत्र में दुर्गाकुंड के कबीर नगर स्थित दयाल टावर निवासी अजय पांडेय ने फर्जी दस्तावेज के जरिये प्रधानमंत्री के नाम से ट्रस्ट पंजीकृत कराया था। कागजातों की जांच में गड़बड़ी पाई गई। अजय पांडेय मुख्य प्रबंधक एवं अध्यक्ष है।
इसके अलावा सरसौली की प्रिया श्रीवास्तव, हुकुलगंज के अनिल, अनेई की रंजीता सिंह, अर्दली बाजार के शाहबाज खान, बलिया के बैरिया के रवींद्रनाथ पांडेय और बेलहरी के अविनाश सिंह को भी नामजद किया गया है। ये सभी ट्रस्ट के सदस्य हैं। जबकि अन्य तीन वाराणसी के प्रदीप कुमार सिंह, नवलपुर बसही के सोनू कुमार गुप्ता, महगांव गरथमा के विकास मिश्रा मुख्य आरोपित अजय पांडेय के साक्षी रूप में नामजद किये गये हैं। कैंट पुलिस ने देर रात अजय पांडेय, रवींद्रनाथ पांडेय और शहबाज खान को गिरफ्तार कर लिया। तीनों से कैंट थाने में एडीएम सिटी और एसपी सिटी ने भी पूछताछ की।
पीएमओ से मांगे एक हजार करोड़
आरोप है कि उक्त ट्रस्ट के नाम पर 30 सितंबर को पीएमओ को पत्र लिखकर एक हजार करोड़ रुपये मांगे गये। वहीं कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी से लेकर अन्य करीब 100 सांसदों को उसने पत्र लिखा है। इनसे करोड़ों की मांग की गई थी।
14 जुलाई को ट्रस्ट का पंजीकरण, ठीक 10 दिन बाद पत्र लिखा
ट्रस्ट का पंजीकरण 14 जुलाई को कराया गया और ठीक 10 दिन बाद ही 24 जुलाई को ट्रस्ट के लेटर हेड पर जिलाधिकारी को पत्र लिखा। पत्र का संज्ञान न लिये जाने पर 27 जुलाई को आईजीआरएस पर जिला प्रशासन की शिकायत की गई। 29 अक्तूबर को जिलाधिकारी के नाम से फिर पत्र लिखा कर तत्काल भूखंड आवंटन और अनुदान दिलाने के लिए राज्य व केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेजने को कहा।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126