प्रयागराज पुलिस का अनोखा कारनामा…

2 साल पहले मर चुके शख्स के खिलाफ यूपी पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश पुलिस का एक नया कारनामा सामने आया है। प्रयागराज पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली, जो इस दुनिया में है ही नहीं। दरअसल, एक शख्स जिसकी कई वर्षों पहले मौत हो चुकी है, उस पर प्रयागराज पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। इस बात का तब पता चला जब उस परिवार के पास उस मृतक के नाम का सम्मन घर पहुंचा। इसके बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया।

प्रयागराज के खुल्दाबाद थाने में मृत व्यक्ति के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज हुई है। पांच दिन पहले लिखे गए इस मुकदमे में डॉ. अबुल हसन सहित दो नामजद व कई अज्ञात अभियुक्त बनाए गए हैं। यह बात सुनकर अबुल हसन की पत्नी के होश उड़ गए। वह मृत पति के खिलाफ मुकदमे की एफआईआर और मृत्यु प्रमाण पत्र कॉपी लेकर अधिकारियों के कार्यालय का चक्कर काटने लगीं। इसके पूर्व हकीकत से सामना करवाने के लिए वह सारे प्रमाण पत्र के साथ थाने जा चुकी हैं लेकिन पुलिस उनकी सुनने को तैयार नहीं है। अब इसमें गलती पुलिस की है या शिकायतकर्ता की, यह समझ पाना मुश्किल हो गया है।

प्रयागराज के खुल्दाबाद थाने में सात अगस्त 2020 को एक मुकदमा लिखा गया। इस मुकदमे में शिकायतकर्ता कनीज रजा रिजवी निवासी अतरसुइया की ओर से मो. मुस्लिम निवासी चकिया खुल्दाबाद, डॉ. अबुल हसन व कई अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। वहीं, पति अबुल हसन के खिलाफ मुकदमे की बात जब पत्नी फरजाना जैदी को पता चली तो वह हैरत में पड़ गईं। उनकी तरफ से पुलिस को बताया गया कि पति अबुल हसन की मौत वर्ष 2017 में ही हो चुकी है। पंजीकरण तारीख 17 अक्टूबर 2017 को नगर निगम इलाहाबाद की ओर से अबुल हसन का मृत्यु प्रमाणपत्र बना है।

इस मुकदमे की एक अहम बात यह भी बताई गई कि शिकायतकर्ता और आरोपियों के बीच जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। दावा है कि मो. मुस्लिम ओर अबुल हसन के बीच समझौता हो गया था। खुल्दाबाद थाना प्रभारी विनीत सिंह ने बताया कि वादी की तहरीर पर केस दर्ज किया गया है। जमीन का विवाद चल रहा है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126