बदहाली की जिंदगी जीने को मजबूर बेजुबान जानवर

सड़कों और हाईवे पर देखें जा सकते जानवरों के झुंड

उरई (जालौन)। दर-दर की ठोकरें खाते हुए आवारा गोवंश सरकार बदली लेकिन उससे ज्यादा आवारा जानवरों की स्थिति बद से बदतर हो गई हालात यह हो गए हैं सुबह हो या शाम, खेत हो या खलिहान सड़क में हो या स्टैंड सभी जगह आवारा पशुओं की भरमार नजर आती है। लेकिन इनमें गलती पशुओं की नहीं है हम आपकी है आम जनता की है क्योंकि जब तक गाय ने दूध दिया तब तक वह अपनी रही लेकिन जैसे ही उसने दूध देना बंद किया तो उसको खूंटे से छोड़ दिया जिस पर वह दर-दर भटक कर पेट भरने के लिए कभी इस खेत में जाती कभी उस खेत में कभी-कभी तो समय ऐसा आता है सड़क किनारे कोई ट्रक की चपेट में आती तो कोई बस की। मामला जनपद जालौन के उरई औरैया हाईवे के सहाव मोड़ के पास का है जहां पर अज्ञात वाहन ने एक गोवंश को टक्कर मार दी जिससे वह सड़क किनारे ही तड़पती रही और उसने तड़प-तड़प कर वहीं दम तोड़ दिया इसलिए जब भी ड्राइविंग करें वाहन चलाएं तो अपने चारों ओर देख ले कहीं कोई जानवर तो नहीं है क्योंकि वह तो बेजुबान है लेकिन आप तो समझदार हैं आप उसको बचा सकते हैं अगर आप संभल कर चलेंगे तो जानवर तो बचेगा ही लेकिन आप भी शिकार होने से बचेंगे।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126