बरामद युवक को बाल कल्याण समिति ने सौंपा था परिजनों को- डॉ. चौधरी जयकरन सिंह

उरई(जालौन): वरिष्ठ समाजसेवी एवम बाल कल्याण समिति जनपद जालौन के सदस्य चौधरी जयकरन सिंह यंग भारत को जानकारी देते हुए बताया कि गत दिवस यह समाचार मीडिया में गया था कि माधोगढ़ पुलिस द्वारा बरामद किए गए युवक को पुलिस द्वारा परिजनों को सौंप दिया गया है। किंतु यह सच नहीं नही है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि उक्त बरामद युवक को बाल कल्याण समिति की ओर से मेरे एवम श्रीमती त्रिवेणी प्रजापति के द्वारा परिजनों को सौंपा गया था। वरिष्ठ नेता ने यह भी बताया कि जनपद में सरकार द्वारा गठित बाल कल्याण समिति संचालित है। तथा जब भी कोई लावारिस व्यक्ति, महिला या नाबालिग युवक, युवती पुलिस द्वारा बरामद किए जाते हैं। तो उक्त समिति के सदस्यों द्वारा समस्त औपचारिकताएं पूरी करके परिजनों को सौंपा जाता है। और यदि उनके परिजन ज्ञात नहीं हैं अथवा वे बालिग होते हुए भी परिजनों के पास नहीं जाना चाहते तो उन्हें सरकार से मान्यता प्राप्त संरक्षण ग्रहों में भिजवाया जाता है। इस हेतु पुरुषों के लिए अलग तथा महिलाओं के लिए अलग संरक्षण ग्रह स्थापित हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि पुलिस को किसी भी लावारिस व्यक्ति, महिला अथवा नाबालिग युवक या युवती को सीधे संरक्षण ग्रह में भेजने का अधिकार नहीं है। यह अधिकार बाल कल्याण समिति के पास है।