बसपा मिशनरियों ने पूर्व जिला सचिव पर कार्यवाही के लिए खोला मोर्चा

उरई (जालौन)। माधौगढ़ बसपा में ज़मीनी और प्रभावशाली कार्यकर्ता की लड़ाई खुलकर सामने आ गयी है। वैसे ही अपने सबसे बुरे दौर से गुज़र रही बसपा पार्टी के लिए गुटबाज़ी और परेशानी बढ़ाने वाली साबित हो सकती है। विगत दिनों कोर्डिनेटर लालाराम की मौजूदगी में हुई गोहन की बैठक में मिशनरी और कांशीराम के साथी रहे रामकिशुन डंडा वाले को युवा नेता द्वारा बेइज्जत किये जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया। जिसके बाद कार्यकर्ताओं ने मिशनरी डंडा वाले के पक्ष में विरोध स्वरूप बैठक आयोजित कर युवा नेता के ख़िलाफ़ निंदा प्रस्ताव पारित करते हुए पार्टी से कार्यवाही की मांग की।
नगर में प्रभुदयाल भाटिया की अध्यक्षता में बसपा के मिशनरी कार्यकर्ताओं ने एक स्वर में कहा कि रामकिशुन डंडा वाले ने कांशीराम के साथ संघर्ष कर बसपा पार्टी को खड़ा किया है। ऐसे में कोर्डिनेटर लालाराम के सामने युवा नेता पूर्व जिला सचिव प्रमोद राजावत ने अभद्रता करते हुए मीटिंग में बेइज्जत किया था। जिसके बाद भी कोर्डिनेटर ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। जिससे मिशनरी कार्यकर्ताओं में आक्रोश है। इसलिए सभी ने निंदा प्रस्ताव पारित कर पार्टी से प्रमोद राजावत पर कार्यवाही करने की मांग की है। बैठक में निर्णय लिया गया कि आगामी चुनावों में पार्टी की जीत भी दिलानी है लेकिन ऐसे कार्यकर्ताओं की शिकायत पूर्व मुख्यमंत्री के पास की जाएगी। बैठक में चिंतामन दोहरे,मिहीलाल दोहरे,मनीष चौधरी,चंद्रशेखर भारती, रामशरण भास्कर,हरिमोहन पांचाल,राजेन्द्र पाल, रामदीन, अरुण सक्सेना,अतुल दोहरे कुरसेंडा आदि कार्यकर्ता थे।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126