बिहार से 20 कामगारों को बुलाने के लिए दिल्ली के किसान ने खरीदे प्लेन के टिकट, लॉकडाउन में फ्लाइट से ही भेजा था घर

दिल्ली के एक किसान ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लागू लॉकडाउन के दौरान फंसे अपने 10 कामगारों को हवाई जहाज से बिहार भेजा था। अब किसान ने उन्हें और 10 अन्य प्रवासी कामगारों को वापस बुलाने के लिए सबके हवाई यात्रा के टिकट खरीदें हैं। पप्पन सिंह ने अपने कामगारों को वापस बुलाने के लिए एक लाख से अधिक रुपए के टिकट खरीदे हैं, ताकि वे अगस्त से अप्रैल माह के बीच मशरूम की खेती कर सकें। इनमें से कुछ कामगार 20 से ज्यादा वर्ष से उनके खेत में काम कर रहे हैं। इनमें से 10 कामगार ऐसे हैं जो पहली बार हवाई यात्रा करेंगे और वे 27 अगस्त को यहां आईजीआई हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे। वे दिल्ली के तिगिपुर गांव में सिंह के साथ मशरूम की खेती करेंगे।

बिहार के समस्तीपुर जिले में अपने पैतृक गांव से नवीन राम ने फोन पर कहा कि वह हवाई यात्रा करने के लिए उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि इस बार उन्हें कोई डर नहीं है क्योंकि वह इससे पहले मई में हवाई यात्रा कर चुके हैं। नवीन उस दस कामगारों में शामिल हैं जो लॉकडाउन के चलते यहां फंस गए थे और जिन्हें सिंह ने मई में घर वापस भेजा था। उन्होंने कहा कि उन्होंने दिल्ली जाने के लिए रेल टिकट बुक करने की कोशिश की लेकिन अगले डेढ माह तक कोई ट्रेन नहीं है।

नवीन ने कहा, ‘अगर हम ट्रेन का इंतजार करेंगे तो इस मौसम में हम मशरूम की खेती नहीं कर पाएंगे। जब हमने अपने मालिक (नियोक्ता) को यह बात बताई तो उन्होंने कहा कि वह हमारे लिए हवाई जहाज के टिकट बुक कर देंगे ताकि कोई देरी नहीं हो। उनके अनुसार सिंह ने सभी 20 प्रवासी कामगारों के लिए 27 अगस्त को अपने पैतृक स्थानों से पटना हवाई अड्डे तक पहुंचने के लिए भी यात्रा की व्यवस्था की है।

इस पर सिंह ने कहा, ‘मैं अपने कामगारों के साथ अपने परिजन की तरफ व्यवहार करता हूं क्योंकि वे पिछले 15 से 20 वर्ष से मेरे साथ काम कर रहे है। मैं इस बार बेहद कम क्षेत्र में खेती कर रहा हूं तो मैं यहां (दिल्ली) कामगारों की व्यवस्था कर सकता था लेकिन मुझे मेरे कामगारों के साथ भावनात्मक लगाव है और इसलिए मैंने उनके टिकट बुक किए ताकि वे यहां काम करके अपनी आजीविका चला सकें।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126