बुंदेली कवि शिवानंद बुंदेला को किया याद, शान में पढ़ी कविताएं

कानपुर: श्रीलक्ष्मी व्यायामशाला समिति झांसी रोड पर पं. शिवानंद मिश्र बुंदेला की तेरहवीं पुण्य तिथि पर काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें कवियों ने कविताएं पढ़कर स्व. वुंदेला को याद कर श्रद्धांजलि अर्पित की।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ कवि यज्ञदत्त त्रिपाठी ने बांदा का संस्मरण सुनाते हुए कहा कि सिर्फ बुंदेला जी को सुनने के लिए श्रोताओं की भीड़ जमी रहती थी। बुंदेली भाषा को सम्पूर्ण राष्ट्रीय मंच पहुंचाने का श्रेय बुंदेला जी को जाता है। आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. एसपी बुधौलिया ने ग्राम दहगुवां की चर्चा करते हुए कहा कि बुंदेला जी सहित इस गांव में पांच राष्ट्रीय स्तर के कवि दिए। काव्य गोष्ठी में शफीकुर्रहमान कश्फी, कवि विनोद गौतम, पं. कृष्णानंद बुधौलिया, प्रिया श्रीवास्तव दिव्यम, गार्गी मिश्रा, साधना गौतम, कृपाराम कृपालु, सरस्वती विद्या मंदिर के प्रधानाचार्य पं. प्रकाशचंद्र त्रिपाठी, पं. रविशंकर मिश्र, राजीव त्रिपाठी, धर्मनाथ श्रीवास्तव, अमित शुक्ल, शायर गीतेश ने अपनी कविताओं में बुंदेला जी को याद किया। इस मौके पर राजीव नारायण मिश्रा, अवनीश चंद्र द्विवेदी, कैलाश पाठक, दिलीप दुबे कुसमिलिया, जितेंद्र मिश्रा, कमला मिश्रा बुंदेला, आशुतोष मिश्रा, मीराबाई दीवान सहित एक सैकड़ा श्रोता उपस्थित रहे।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126