बेहतर स्वास्थ बना लोगो के जीवन की पहली प्राथमिकता

आन लाइन योग की जानकारी देते योगाचार्य अरूण कुमार दिवेदी तथा योग करते लोग

योग व्यायाम और सुबह की सैर करने वालो की तादात बढी

खानपान पर भी कायम हुयी नई सोंच

उरई(जालौन)।समय का बदलाव कहें या कोविड 19 के दौरान बने हालात कि इन दिनों जिस तरह से लोगो के जेहन में बेहतर स्वास्थ कायम रखने के प्रति जागरूकता बढी है वह कम चैकाने वाली नही है बीते कुछ माह से तो यह आलम है कि समाज का एक बडा तबका अब प्राथमिकता के तौर पर बेहतर स्वास्थ की जरूरत को महसूस करने लगा है यही वजह है कि तेजी के साथ योग व्यायाम और सुबह की सैर करने वालों की तादात में अप्रत्याशित इजाफा हुआ है।

हमारी वैदिक पंरंपराये हमें जीवन की सबसे अहम जरूरत बेहतर स्वास्थ को बतलाती रही है लेकिन कुछ दशकों से तेजी से हो रहे भौतिक विकास ने जीवन शैली को बदलकर रख दिया है नतीजा यह रहा कि अत्यधिक धनोपार्जन और सुख सुविधायें जुटाने की हौड के चलते लोग स्वास्थ के प्रति वेपरवाह दिखलाई देने लगे थे सामाजिक जीवन का कोई भी क्षेत्र ऐसा अछूता नही रहा जहां लोग स्वास्थ के प्रति बेपरवाह न रहे हो स्कूलों में अध्ययनरत छात्रों से लेकर नौकर पेशा व्यवसाई उदमी खिलाडी कलाकार सभी की जीवन शैली ने उन्हें स्वास्थ के मामलें में बडी चुनौती से जूझने के लिये विवश कर दिया था बहरहाल कोविड 19 वैश्विक महामारी के दौरान लोगो को स्वत ही स्वास्थ को लेकर चिंताये सताने लगी नतीजतन जो तश्वीर सामने आयी वह बेहद ही सकारात्मक रहीं लोगो का रूझान प्राथमिकता के तौर पर बेहतर स्वास्थ बनाये रखने के प्रति तेजी पकडता जा रहा है हालाकि इस सब में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रेरणास्पद कार्यक्रमो और अभियानों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है पतंजली योग पीठ के बाबा रामदेव सहित बडी तादात में जागरूक लोगो की पहल और योग तथा व्याायाम के प्रति बढती लोगो की आस्था और विश्वास का परिणाम है कि ग्रामीण अंचलों से लेकर शहरी क्षेत्रों में भी इसका असर दिखलाई देने लगा है। टीवी चैनल्स पर प्रसारित कुछ कार्यक्रम लोगो की पंसद इसीलिये बन गये है कि उनमें बेहतर स्वास्थ बनाने को लेकर काफी महत्पूर्ण जानकारिया दी जाती है। आल इंडिया आयुष मंत्रालय दारा प्रमाणित परीक्षा में सफलता के बाद योगाचार्य अरूण कुमार दिवेदी ने योग की कक्षाओं को लाक डाउन के दौरान लोगो की उत्सुकता को देखते हुये जारी रखा तो वहीं अनलाक में उनकी यह पहल जोर पकडती जा रही है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126