भव्य श्रीराम मन्दिर, धारा 370, 35ए, तीन तलाक तथा नई शिक्षा नीति बनेंगे भाजपा के मुख्य चुनावी हथियार

बिहार, बंगाल और उप्र के चुनाव में मुद्दा बनाया जाएगा

भव्य श्रीराम मन्दिर के निर्माण को लेकर संघ और उसके सभी अनुसांगिक संगठन देशभर में लगभग 5 लाख गांव में लोगों को जागृत कर इस मुद्दे से जोड़ेंगे

भाजपा कार्यकर्ता भी अयोध्या के भव्य श्रीराम मन्दिर और उपरोक्त सभी मुद्दों पर न्याय पंचायत स्तर तक मीटिंगें करेंगे

कोरोना महामारी में विश्व के मुकाबले भारत में मृत्यु दर का प्रतिशत कम बताकर भी मतदाताओं को प्रभावित किया जाएगा

नई शिक्षा नीति के सहारे प्राथमिक स्तर पर भारत में मातृभाषा में शिक्षा, रोजगारपरक तथा रुचि के हिसाब से शिक्षा को भी चुनाव में मुद्दा बनाया जाएगा

अनिल शर्मा़+संजय श्रीवास्तव़+डा0 राकेश द्विवेदी

दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उसके अनुसांगिक संगठन अलग अलग मुद्दों को लेकर पूरे देश में लोगों को जागृत करने तथा भव्य श्रीराम मन्दिर, धारा 370, 35ए, तीन तलाक, नई शिक्षा नीति और कोरोना के मुद्दों को उनमें काम करने वाले और विषय विशेषज्ञों के माध्यम से लोगों को जागृत करने और उनका एक डिजिटल नेटवर्क तैयार करके उसे भाजपा के आइटी सेल से जोड़ा जाएगा।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उसके अनुसांगिक संगठन विष्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल तथा दुर्गा वाहिनी को आगामी सितंबर माह से यह दायित्व दिया जाएगा कि वे देश में महानगरों और नगरों के अलावा पांच लाख गांव तक अयोध्या में भव्य श्रीराम मन्दिर बनाने के लिए पचास करोड़ लोगों से सम्पर्क करेंगे और भव्य श्रीराम मन्दिर में निर्माण के लिए उन्हें अपना श्रद्धापूर्वक योगदान देने के लिए आग्रह करेगा। यह अभियान लगभग सितंबर 2020 से 2023 तक जब तक भव्य श्रीराम मन्दिर बन नहीं जाता जारी रहेगा। इसी तरह संघ और उसका अनुसांगिक संगठन विद्या भारती के साथ पूरे देश में शिक्षाविदों के साथ मिलकर कोरोना काल में वेबनार के माध्यम से तथा वर्चुअल सभाएं कर लोगों को नई षिक्षा नीति के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे।
वे देशवासियों को बताएंगे कि आजादी के 73 साल बाद पहली बार किसी सरकार ने ऐसी शिक्षा पद्धति लागू की है, जो व्यक्ति का सर्वांगीण विकास करेगी। प्राथमिक स्तर पर जहां सभी राज्यों में मातृभाषा में शिक्षा दी जाएगी। जहां 5़3़3़4 के फार्मूले के तहत गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जाएगी, वहीं यह भी ध्यान रखा जाएगा कि छात्र छात्रा कि रुचि किस विषय में और क्या बनने में है। उनकी रुचि के हिसाब से विषय चयन करने की छूट होगी और शिक्षा ऐसी दी जाएगी जो रोजगारपरक हो।
इसी तरह धारा 370 और 35ए के बारे में भी कष्मीर के और देष के कानूनविदों, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ कष्मीर के लोगों को इसके बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए इन धाराओं के हटने के बाद उसकी प्रगति कैसे बुलंदियों को छुएगी यह बताया जाएगा। इसके अलावा कष्मीर घाटी, जम्मू तथा लद्दाख के लोगों से मिलकर सरकार यह पता करेगी कि पिछले एक वर्ष में उनकी क्या क्या समस्याओं का निराकरण हुआ, ताकि बची हुई समस्याओं पर तेजी से कार्य किया जा सके। भाजपा के मुस्लिम नेता भी लोगों को जागरूक करेंगे और तीन तलाक से पीड़ित देश की महिलाओं को इन कानूनों के तहत न्याय दिलाने के लिए सहयोग करेंगे।
इसी तरह कोरोना के बारे में भी भाजपा मीडिया के द्वारा देश के लोगों को यह बताएगी कि अन्य देशों के मुकाबले हमारे देश में मृत्युदर कितनी कम है और कोरोना की जांच के लिए हम प्रतिदिन जांचों की संख्या कैसे बढ़ाते जा रहे हैं। इसके अलावा पूरे देश में सैकड़ों बैड वाले कोविड-19 अस्पताल बनाए हैं तथा और भी बनाने जा रहे हैं। इन सभी मुद्दों का भाजपा एक कारगर हथियार की तरह पहला परीक्षण बिहार विधानसभा चुनाव में करेगी। उसके बाद बंगाल तथा उप्र में करेगी। यदि इन तीनों राज्यों में उससे आषातीत सफलता मिलती है या कुछ कमी रह जाती है तो भाजपा और संघ अलग अलग तरीके से अपनी उच्च स्तरीय बैठकों में इन पांचों मुद्दों पर गहन विचार करेगी।
इसके अलावा तीनों राज्यों में किसानों को दी जाने वाली राहत राषि, विधवा पेंशन, बुजुर्गों को दी जाने वालीे वृद्धावस्था पेंशन, गरीब महिलाओं को उनकी गृहस्थी के लिए सिलण्डर, बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस वे, सुरक्षा कारीडोर आदि के बारे में भी बताकर मतदाताओं केा प्रभावित करेगी। बहरहाल भाजपा और संघ के अनुसांगिक संगठनों नेअभी से अपनी अपनी रणनीति बनानी शुरु कर दी है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126