भाजपा से निष्कासित नेताओं ने कटवा दी पार्टी की नाक

सत्ता का जलवा दिखाने वाले जा सकते हैं जेल

द यंग भारत की खबरों से अब पूर्व सत्ताधारी आरोपियों पर कसा पुलिस का शिकंजा
दोनों आरोपी पूर्व भाजपा पदाधिकारी हैं तथा भाजपा सदर विधायक के बेहद करीबी हैं
जिला प्रचारक ने भी इस मामले की शिकायत संघ के उच्च अधिकारियों से की थी
बना जी एवम पुलिस की निष्पक्षता की सर्वत्र हो रही तारीफ
हिल गयीं भाजपा में घुसे दागी नेताओं की चूलें
अनिल शर्मा+संजय श्रीवास्तव+डॉ. राकेश द्विवेदी
उरई: द यंग भारत की खबरों का असर है कि अब भाजपा से निष्कासित छेड़खानी के आरोपी नेताओं पर पुलिस ने शिकंजा कस दिया है। भाजपा की नगर मंत्री माला(काल्पनिक नाम) की लिखित शिकायत पर आज कोतवाली पुलिस उरई ने भाजपा से निकाले जा चुके दोनों पदाधिकारियों पूर्व नगर मंत्री रामू गुप्ता और पूर्व नगर कोषाध्यक्ष प्रेम वर्मा के खिलाफ किया मुकदमा दर्ज। दोनो ही भाजपा के पूर्व नेता भाजपा से सदर विधायक के बेहद करीबी बताये जाते हैं।
मालूम हो कि बीती 15 मई 2020 को भाजपा की नगर मंत्री माला(काल्पनिक नाम) ने एक पत्र पार्टी के जिलाध्यक्ष रामेन्द्र सिंह बना जी को लिखकर दिया था। जिसमे उन्होंने अपनी पीड़ा बताते हुए लिखा था कि भाजपा के तत्कालीन नगर मंत्री रामू गुप्ता तथा तत्कालीन भाजपा के नगर कोषाध्यक्ष प्रेम वर्मा उनके घर पर आए थे। पहले उन्होंने कोरोना के कारण उनके घर की आर्थिक तंगी को आधार बनाकर उसे खाद्यान किट देने की पेशकश की। इसके बाद वे दोनों नेता रामू गुप्ता व प्रेम वर्मा उसके साथ छेड़खानी और अश्लील हरकतें करने लगे और अपने मोबाइलों से जबरन फ़ोटो भी खींचे। जिसपर उसने उन्हें घर से निकल जाने को कहा तो वे स्कूटी दिलाने तथा विधायक जी से कहकर ब्यूटी पार्लर के लिए खूब पैसा दिलाने का प्रलोभन देने लगे। इसके विरोध में जब उसने उन्हें कड़े शब्दों में घर से चले जाने के लिए कहा तब वे घर से बाहर गए। उसने अपनी साथ हुई यह घटना अपने पति को बताई। इसके बाद नेत्री ने भाजपा के जिलाध्यक्ष रामेन्द्र सिंह बना जी को लिखित पत्र देकर अपनी आपबीती बताई। जिसपर भाजपा के जिलाध्यक्ष बना जी ने बीती 27 मई को भाजपा महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष प्रीति बंसल की अध्यक्षता में भाजपा जिला उपाध्यक्ष देवेंद्र यादव, पूर्व जिला महामंत्री भगवती शुक्ला सहित तीन सदस्यीय जांच समिति को सात दिन के भीतर उन्हें अपनी रिपोर्ट देने को कहा। लेकिन भाजपा की इस घटना को लेकर और शहर में हो रही फजीहत को देखते हुए समिति ने पांच दिन के भीतर ही रिपोर्ट जिलाध्यक्ष को सौंप दी। बना जी ने द यंग भारत सहित मीडिया को बताया कि समिति ने उन दोनों भाजपा पदाधिकारियों को दोषी पाया है। पार्टी में ऐसी गंदी हरकतें नहीं चलेगीं। इसलिए नगर मंत्री रामू गुप्ता और नगर कोषाध्यक्ष प्रेम वर्मा को तत्काल पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। इस निर्णय से पीड़िता भाजपा नगर मंत्री खुश हुई। उसने पार्टी पदाधिकारियों और मीडिया का धन्यवाद दिया। लेकिन उसके मन मे एक कसक बाकी थी कि नारी का शोषण करने वाले भाजपा से निकाले गए इन नेताओं को और कड़ी सजा मिलनी चाहिए। उधर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला प्रचारक दीपक जी ने इस घटना को लेकर संघ के वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत की और यह भी कहा कि संघ के प्रचारक से भाजपा के विधायकों का व्यवहार अच्छा नहीं है। उन्होंने भाजपा महिला नगर मंत्री के साथ हुई घिनोनी हरकत के लिए दोषियों को कठोर से कठोर सजा देने की बात कही। इसके कारण संघ के जिला प्रचारक और भाजपा के दो विधायकों के बीच सीत युद्ध जैसी स्थिति आ गयी। भाजपा और संघ में हड़कंप की स्थिति बन गयी। इसके बाद भाजपा की नगर मंत्री ने कोतवाली उरई पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर उसके साथ छेड़खानी और अश्लील हरकतें करने वाले क्रमशः रामू गुप्ता और प्रेम वर्मा के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की मांग की। इस पर कोतवाली पुलिस ने दोनों के विरुद्ध एफ.आई.आर दर्ज कर कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी है। इससे भाजपा की महिलाओं तथा जिले की अन्य संभ्रांत महिलाओं में ये विश्वास जागा है कि दोषी कथित भाजपा नेताओं को सत्ताधारी होते हुए भी घिनोने कृत्य के प्रतिफल में अब जेल भी जाना पड़ सकता है।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126