मच्छरों के प्रकोप ने बढ़ाई कोरोना संक्रमण की आशंका कोबिड जांच कराने को आगे आने लगे लोग

उरई(जालौन)। तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमित ओं की तादाद का आंकड़ा अब लोगों को एक बार फिर डर आने लगा है यह दीगर बात है कि अनलॉक के बाद सामान्य जीवन की ओर लोग लौटने लगे हैं लेकिन जिस तरह से बदलते मौसम के साथ बड़ी मच्छरों की तादाद इन दोनों लोगों की आशंकाएं बना रही है उसको देखते हुए कहा जा सकता है कि लोगों के सामने अभी कोरोना महामारी का वह पूरी तरह से दूर नहीं हुआ है छुटपुट बुखार भी उन्हें संक्रमण की आशंका से घेर लेता है पिछले कुछ दिनों से मौसम के हालात बदलने लगे हैं सुबह शाम हल्की सर्दी और दिन में सामान्य तापमान के बीच मच्छरों की तादाद अचानक बढ़ गई है। नगर के कुछ इलाकों में तो यह हालत है कि मच्छरों की वजह से लोग ठीक से नींद भी पूरी नहीं कर पा रहे हैं। जिससे उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगा है देखा जा रहा है कि अधिकांश लोग सर्दी जुकाम के अलावा शरीर दर्द और बुखार की दिक्कतें लेकर मरीजों को चिकित्सकों के पास पहुंचाने लगी है सरकारी चिकित्सालयों के अलावा निजी अस्पतालों में भी मरीजों की तादाद खासी बढ़ गई है आमतौर पर इन दिक्कतों के मरीजों को चिकित्सक संबंधित दबाएं देकर ठीक होने का भरोसा दिला देते हैं बावजूद इसके लोगों में कोरोना की आशंका बनी रहती हैं जिस से निजात पाने के लिए अब वह जांच कराने में ही अपनी भलाई समझने लगे हैं यही वजह है कि लोगों को अब कोबिट की जांच के लिए सरकारी अस्पतालों में बड़ी तादाद में देखा जाने लगा है जहां लगाकर जांच कराने लगे हैं।
ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता की जिम्मेदारी आशाओं ने ली
मच्छर जनित बीमारियों के प्रति आम लोगों को जागरूक करने की जिम्मेदारी अब आशा बहुओं ने अपने हाथों में ले ली है। जिस के क्रम में आशा बहुओं की टीमें ग्रामीण अंचलों में डोर टू डोर जाकर लोगों को मच्छर जनित बीमारियों से बचाव के तरीके बता रही हैं। तो वहीं सफाई का संदेश भी दे रही हैं। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, आईसीडीएस, पंचायती राज, स्वच्छ भारत मिशन, शिक्षा विभाग, पशुपालन सहित कई विभागों के सहयोग से यह अभियान चलाया जा रहा है। इस बाबत मलेरिया विभाग की माने तो आशा कार्यकर्ता हैं घर-घर जाकर लोगों को मच्छर जनित बीमारियों के बारे में जागरूक करने के काम में जुटी हुई हैं। साथ ही लोगों को कोरोना के प्रति सतर्कता बरतने के लिए भी आवश्यक बातें बता रही हैं।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126