मनचाही पोस्टिंग के खेल में IPS अजयपाल शर्मा पर गंभीर आरोप

लखनऊ: एसआईटी और विजिलेंस ने अपनी जांच में आईपीएस डॉक्टर अजयपाल शर्मा पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। एसआईटी ने अपनी जांच में दावा किया है कि उन्होंने उनकी पत्नी होने का दावा करने वाली महिला के खिलाफ बुलंदशहर और रामपुर में फर्जी मुकदमे दर्ज करवाए। वह जेल में बंद माफिया अनिल भाटी से लगातार वॉट्सऐप पर चैट कर रहे थे। इसके अलावा मेरठ और एक अन्य जिले में अपनी तैनाती करवाने के लिए कथित पत्रकार और उसके साथी से 80 लाख रुपये के लेन-देन की बात भी की।

आईपीएस अजयपाल की वॉट्सऐप चैट तथा कॉल रेकॉर्ड को एसआईटी ने अपनी जांच में सबूत बनाया है। इसी के बाद विजिलेंस ने भी उनके खिलाफ जांच की। नोएडा के पूर्व एसएसपी रहे वैभव कृष्ण ने मनचाही पोस्टिंग के लिए लेनदेन का मसला उठाया था। अजयपाल इसी मामले में आरोपी हैं।

9 रिकॉर्डिंग खंगाली गईं
एसआईटी और विजिलेंस ने आईपीएस डॉक्टर अजयपाल शर्मा से जुड़ी नौ रिकॉर्डिंग की पड़ताल की। इनमें से पांच में मनचाही पोस्टिंग को लेकर बातचीत है।

पहली-दूसरी रिकॉर्डिंग: अजय और कथित पत्रकार चंदन राय के बीच मेरठ में पोस्टिंग करवाने को लेकर 80 लाख रुपये के लेन-देन की बात हो रही है। आधी रकम अडवांस और बाकी काम होने के बाद देने को कहा जा रहा है।

तीसरी रिकॉर्डिंग:
 चंदन राय और स्वप्निल राय के बीच सत्ता पक्ष से जुड़े तीन बड़े नामों का जिक्र करते हुए पोस्टिंग के लिए बात हो रही है। अजय के आईएएस भाई, जो एसडीएम के पद पर हैं, उनका जिक्र हो रहा है।

चौथी रिकॉर्डिंग: अतुल शुक्ला और चंदन राय के बीच अजय पाल की पोस्टिंग को लेकर बात हो रही है। अडवांस में 20 किताब (20 लाख रुपये) और साठ किताब (साठ लाख रुपये) एक माह देने का जिक्र है।

पांचवीं रिकॉर्डिंग: चंदन राय और अंकित नाम के शख्स के बीच महिला के मोबाइल से डेटा हटाने की बात हो रही है।

छठी-सातवीं रिकॉर्डिंग: चंदन राय और सुनील भारती के बीच बातचीत हो रही है। इनमें अजयपाल की पत्नी होने का दावा करने वाली महिला के खिलाफ फर्जी मुकदमा दर्ज करवाने की बात हो रही है।

आठवीं-नौंवी रिकॉर्डिंग: चंदन राय और स्वप्निल राय के बीच तीन जिलों में पोस्टिंग व सहारनपुर और मेरठ में कोई तुलना न होने के बात कहते हुए 20 लाख रुपये अडवांस देने का जिक्र है।

आईपीएस अजय पाल की सफाई
इन आरोपों पर सफाई देते हुए आईपीएस अजयपाल शर्मा ने कहा, ‘मुझ पर लगे सभी आरोप गलत हैं। मैंने एसएसपी नोएडा रहते हुए अनिल भाटी के खिलाफ एनएसए लगाया, संपत्तियां जब्त कीं। भाटी के परिवारने मेरे ऊपर घर तुड़वाने का आरोप लगाया था। मेरी जिस चैट का जिक्र हो रहा है, वह वर्ष 2018 की बताई जा रही है। जेल में रहते हुए किसी से बात हो नहीं सकती है। महिला ने जो फर्जीवाड़े किए हैं, उसके चलते उन पर मुकदमे दर्ज हुए हैं। इसमें मेरी कोई भूमिका नहीं है। महिला ने मेरी पत्नी होने का जो दावा किया था वह भी सही नहीं पाया गया है। मैंने महिला के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज किया है। चंदन राय से हुई बातचीत गलत है। मेरी जितनी भी तैनातियां हुई हैं, वह मेरी मेरिट के आधार पर हुई हैं। जिन जिलों में पोस्टिंग की बात की है, वहां मैं तैनात ही नहीं रहा।’

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126