महिमा विद्यार्थी मनरेगा योजना के अंतर्गत एक दिवसीय समवर्ती सोशल आडिट प्रशिक्षण संपन्न

जालौन। समवर्ती सोशल आडिट रचनात्मक दृष्टि से नया प्रयोग है। एेसे में सोशल आडिट टीम के सदस्यों को सकारात्मक सोच के साथ सोशल आडिट करना चाहिए। सभी प्रशिक्षणार्थी अपनी जिम्मेदारी का पूरी ईमानदारी के साथ निर्वहन करें ताकि सरकार की समवर्ती सोशल आडिट की मंशा कामयाब हो सके। यह बात विकास खंड सभागार में मनरेगा योजना के अंतर्गत एक दिवसीय समवर्ती सोशल आडिट के प्रशिक्षण शिविर में बीडीओ ने प्रशिक्षणार्थियों से कही।
विकास खंड सभागार में सोशल आडिट टीम के सदस्यों का एक दिवसीय प्रशिक्षण बीडीओ महिमा विद्यार्थी की अध्यक्षता में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हुआ। इस दौरान सोशल आडिट के जिला समन्वयक कुलदीप थापक ने टीम के सदस्यों को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने आडीटर्स को समझाया कि उन्हें किन किन बिंदुओं पर सत्यापन करना है और किस प्रकार से रिपोर्ट तैयार करनी है। इसके अलावा शाम को फोटो सहित रिपोर्ट तैयार कर भेजने के बारे में जानकारी दी गई। सोशल आडिट को लेकर बीडीओ महिमा विद्यार्थी ने बताया कि गांवों में हर प्रवासी श्रमिक को मनरेगा में काम मिले। समय पर भुगतान हो और श्रमिकों को कार्य स्थल पर कोई परेशानी न हो इसके लिए शासन के निर्देश पर समवर्ती सोशल आडिट कराया जा रहा है। आडिट टीम कार्य स्थल पर पहुंचकर कार्य का सत्यापन, उसकी गुणवत्ता, श्रमिकों से संपर्क कर रोजगार एवं भुगतान प्राप्त करने के संबंध में अनुभव की जा रही समस्याओं आदि की जानकारी लेंगी। साथ ही काम करे रहे श्रमिकों के पास जाब कार्ड हैं या नहीं, मस्टर रोल के अनुसार श्रमिक काम कर रहे हैं या नहीं इसकी रिपोर्ट तैयार कर फोटोग्राफ समेत उपलब्ध कराएंगे। बीडीओ ने बताया कि सोशल आडिट से मनरेगा कार्यों में सुधार होगा ही साथ ही श्रमिकों की भी परेशानियां दूर होंगी। इसके अलावा फर्जीवाड़े की शिकायतें भी समाप्त हो जाएंगी। वहीं उन्होंने कोरोना के बीच होने वाले सोशल आडिट के दौरान टीम के सदस्यों को कार्य करने के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग अपनाने, मास्क पहनने एवं भीड़ एकत्रित न करने की नसीहत भी दी।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126