मां गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए आमरण अनशन में बैठे स्वामी शिवानन्द के समर्थन में सोमवार को देशभर में उपवास

देश के सभी राज्यों में व 108 स्थानों पर हजारों गंगाभक्त सोमवार को कर रहे उपवास

स्वामी सानन्द के गंगा के लिए बलिदान के बाद अब मातृ सदन हरिद्वार के स्वामी शिवानन्द 3 अगस्त से आमरण अनशन पर

जल पुरुष राजेन्द्र सिंह भीकमपुरा आश्रम में और जल जन जोड़ो अभियान के राष्ट्रीय संयोजक डा0 संजय सिंह झांसी में अनशन पर

विजयबाड़ा में सत्याबुल शेट्टी, नासिक में निसिकांत पंगारे और चित्रकूट में अभिन्यु भाई उपवास पर बैठे

उदयपुर में डा0 तेज राजदान, कोटा में बृजेष वर्गीय सहित देश में 108 स्थानों पर हजारों सामाजिक कार्यकर्ता उपवास पर बैठे

अनिल शर्मा़+संजय श्रीवास्तव़+डा0 राकेश द्विवेदी

हरिद्वार। मां गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए मातृ सदन हरिद्वार में स्वामी शिवानन्द पिछली 3 अगस्त से आमरण अनषन पर हैं। उनके समर्थन में आज देशभर के सभी राज्यों के 108 स्थानों पर क्रमषः जलपुरुष राजस्थान के भीकमपुरा आश्रम में आज कार्यकर्ताओं के साथ उपवास पर बैठे। वहीं जल जन जोड़ो अभियान के राष्ट्रीय संयोजक डा0 संजय सिंह झांसी में समर्थकों के साथ उपवास पर बैठे। इसी तरह सामाजिक कार्यकर्ता देश के अलग-अलग स्थानों पर बड़ी संख्या में उपवास पर बैठे।
मालूम हो कि गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए प्रो0 बीडी अग्रवाल (स्वामी सानन्द) ने आमरण अनशन करते हुए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया था। इसके बाद अब मातृ सदन हरिद्वार के स्वामी शिवानन्द ने 3 अगस्त 2020 से आमरण अनशन शुरु कर दिया था। जिसका आज सातवां दिन है। उनके समर्थन में और मां गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए जल पुरुष राजेन्द्र सिंह और डा0 संजय सिंह ने देश के सभी गंगाभक्तों को स्वामी शिवानन्द के आमरण अनशन के समर्थन में आज 10 अगस्त को आमरण अनशन करने का आवाहन किया था। जिसके चलते आज देश के सभी राज्यों के 108 स्थानों पर हजारों गंगाभक्तों ने उपवास किया।
जलपुरुष राजेन्द्र सिंह के नेतृत्व में राजस्थान के अलवर जिले के भीकमपुरा आश्रम में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने उपवास किया। इसी तरह जल जन जोड़ों अभियान के संयोजक डा0 संजय सिंह ने झांसी में उपवास किया। जल जन जोड़ो अभियान के बैनर तले जालौन, छतरपुर, तालबेहट (ललितपुर), टीकमगढ़, एटा और छिंदवाड़ा में भी सैकड़ों सामाजिक कार्यकर्ता उपवास पर बैठे। इसी तरह राजस्थान में उदयपुर में डा0 तेज राजदान के तथा कोटा में बृजेष वर्गीय के नेतृत्व में उपवास पर बैठे। चित्रकूट में प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता अभिमन्यु भाई के नेतृत्व में, नासिक में निषिकांत पंगारे के तथा विजयबाड़ा में सत्याबुल शेट्टी के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ता उपवास पर बैठे।
मालूम हो कि स्वामी सानंद के बलिदान के बाद स्वामी आत्मबोधानंद व साध्वी पद्मावती ने भी आमरण अनशन किया था। अनशन के लगभग दो माह बीत जाने के बाद उत्तराखण्ड की सरकार ने फोर्स फीडिंग कराके उनका आमरण कराके उनका अनशन तुड़वा दिया था। जिसके विरोध में बीती तीन अगस्त से मातृ सदन के मुख्य स्वामी स्वामी षिवानन्द ने आमरण अनशन शुरू कर दिया।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126