मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड में की पेय जल की स्थायी समस्या का स्थायी निदान देने की योजना का शुभारंभ

प्रथम चरण में तीन जनपदों के लिए 2185 करोड़ की 12 परियोजनाओं का शुभारम्भ
पेयजल के प्राचीन संकट को हल करने की मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी पहल से जनता के चेहरे खिले
अनिल शर्मा+संजय श्रीवास्तव+डॉ. राकेश द्विवेदी
झाँसी: बुन्देलखण्ड में सूखे का अभिषाप अब नहीं रहेगा। हर घर जल योजना साकार करते हुए दो वर्ष के अन्दर हर घर में स्वच्छ जल पहुंचेगा। बुन्देलखण्ड की चुनौती पेयजल संकट है। अब मां बहन को पानी लेने के लिए कहीं दूर नहीं जाना पड़ेगा। बारिस के पानी का संरक्षण भी किया जाएगा। यह बातें आज चिरगांव के ग्राम मुराटा में हर घर जल परियोजना की भागीरथी बहाने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रथम चरण में तीन जनपदों के लिए 2185 करोड़ की परियोजनाओं के निर्माण कार्याें का शुभारम्भ करते हुए कहीं।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में कहा कि बुन्देलखण्ड में पेयजल की समस्या के साथ स्वास्थ का संकट जुड़ा हुआ है।
आज इन सबका समाधान हो रहा है। इन योजनाओं में युवाओं को रोजगार भी मिलेगा। आप सबने जनप्रतिनिधियों से मिलकर विकासशील योजनाओं को आगे बढ़ाया। बुन्देलखण्ड में सूखे का अभिषाप अब नहीं रहेगा। हर घर जल योजना साकार करते हुए दो वर्ष के अन्दर हर घर में नल होगा। बुन्देलखण्ड की चुनौती पेयजल संकट है। अब मां बहन को पानी लेने के लिए कहीं दूर नहीं जाना पड़ेगा। बारिस के पानी का संरक्षण भी किया जाएगा। अब तक खनन माफियाओं ने देश को बर्बाद किया है। 70 वर्ष से बुन्देलखण्ड में कोई विकास नहीं हुआ। पहले चरण के तीन जनपदों में पाईप पेयजल योजनाओं का शुभारम्भ किया है। दो वर्ष के अन्दर यहां के हर ग्राम पंचायत में हर घर जल योजाना को साकार करते हुए बुन्देलखण्ड के सूखे के अभिषाप को मुक्त कर दिया जाएगा। आपके कदम से कदम मिलाते हुए बुन्देलखण्ड के विकास का कार्य करेंगे।
मुख्यमंत्री ने पिछले तीन साल की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि भाजपा सरकार में केन्द्र में बैठे प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी के नेतृत्व में 20 करोड़ जनधन खाताधारी माताओं को 500 रुपये देने का कार्य हुआ। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अन्तर्गत किसानों के खाते में दो-दो हजार की किस्त पहुंचाने का कार्य किया गया। उन्होंने कहा कि भाजपा ने रिकाॅर्ड शौचालय बनवाने का कार्य किया है। ताकि जिनके घर में शौचालय बने हैं उसका प्रयोग करें और स्वस्थ रहें। बीमारी नहीं होगी। आपके स्वास्थ का संबंध स्वच्छता से है। प्रथम चरण में झांसी, ललितपुर व महोबा जिले की 12 पाईप पेयजल परियोजनाओं से 770 गांवों के करीब 15 लाख आबादी को शुद्ध पेयजल प्रदान किया जा सकेगा।
समाचार लिखे जाने तक मुख्यमंत्री का उड़नखटोला वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की नगरी झांसी में आ पहुंचा था। यहां उन्हें नाॅन कोविड हाॅस्पिटल का निरीक्षण करना था।
इस अवसर पर जल शक्ति एवं बाढ़ नियंत्रण,नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति मंत्री डा.महेन्द्र सिंह,सदस्य विधान परिषद प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह,सांसद हमीरपुर कुंवर पुष्पेन्द्र सिंह चंदेल,जालौन सांसद भानुुप्रताप वर्मा समेत तमाम जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।