योगी ने किए पुलिस के दो डीआईजी निलंबित

इनपर थे भ्रस्टाचार के गंभीर आरोप

 पशुपालन विभाग के घोटाले में आया था नाम

वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों से घिरे डीआईजी स्तर के दो आईपीएस अधिकारियों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को निलंबित कर दिया। गृह विभाग से मिली जानकारी के अनुसार डीआईजी दिनेश चंद्र दुबे और डीआईजी अरविंद सेन पर कार्रवाई की गई है। दुबे पर यूपीसीडको नोडल एजेंसी में कुछ को लाभ पहुंचाने का आरोप है। वहीं, पशुपालन विभाग में कूटरचित कर ठगी में मदद करने के आरोप में डीआईजी अरविंद सेन को निलंबित किया गया है।

पशुपालन विभाग में फर्जी टेंडर दिलाने में आया था नाम

आईपीएस दिनेश चंद्र दुबे और अरविंद सेन का पशु पालन विभाग में फर्जी टेंडर दिलाने के नाम करोड़ों के घोटाले में नाम आया था। जिसके बाद दोनों पर कार्रवाई की सिफारिश की गई थी। मौजूदा समय में दिनेश चंद्र दुबे डीआईजी रूल एंड मैन्युअल थे और अरविंद सेन की तैनाती डीआईजी पीएसी आगरा के पद पर थी। एसटीएफ की रिपोर्ट में दोषी दोनों अफसर दोषी पाए गए थे।

पशुपालन घोटाले में अब तक 9 गिरफ्तार

दरअसल, पशुपालन विभाग में इंदौर के व्यापारी से मास्टरमाइंड आशीष राय ने ठेका दिलाने के नाम पर एक व्यापारी से ठगी की 9 करोड़ ठगी की थी। इस मामले में हजरतगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज है। मामले की जांच शासन ने एसटीएफ को सौंपी थी। एसटीएफ ने अब तक 9 लोगों को गिरफ्तार कर जेल अंदर डाल चुकी है। आजमगढ़ में तैनाती के दौरान दोनों ही अफसरों की मुख्य आरोपी रहे आशीष राय से सांठगांठ थी। 8 ठेकों को दिलाने में डीसी दुबे की भूमिका सामने आई थी। अरविंद सेन पीड़ित के व्यापारी को सीबीसीआईडी मुख्यालय में बुलाकर धमकाने में शामिल होने की जानकारी मिली थी।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126