राजा भइया कुण्डा के विरुद्ध चल रहे मामलों को वापिस लेने से हाई कोर्ट नाराज

पूर्व काबीना मंत्री कुण्डा के राज घराने के मुखिया राजा भइया के विरुद्ध अदालतों में प्रचलित मुकदमों को शासन द्वारा वापिस लेने के आदेश से नाराज हाई कोर्ट ने दिया सरकार को नोटिस

लखनऊ उच्च न्यायालय से प्राप्त

लखनऊ: उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने सरकार को नोटिस जारी करते हुए पूंछा है कि किन परिस्थितियों में उसने रघु राज प्रताप सिंह उर्फ राजा भइया के खिलाफ विभिन्न अदालतों में चल रहे आपराधिक मुकदमों को वापिस लेने का आदेश जारी किया है।

उच्च न्यायालय की खंडपीठ ने कड़क लहजे में सरकारी वकीलों से जवाब तलब करते हुए मुकदमों को वापिस लेने का कारण पूंछा। संतोष जनक उत्तर ना मिलने के बाद उच्च न्यायालय ने बाकायदा नोटिस जारी करके उत्तरप्रदेश सरकार से लिखित जवाब मांगने का आदेश पारित किया है। कोर्ट ने साफ-साफ कहा कि राजा भइया के विरुद्ध विभिन्न आपराधिक मामलों को सरकार ने किन परिस्थितियों में वापिस लेने का आदेश किया है। न्यायालय ने साफ शब्दों में नोटिस में आदेश किया है कि सरकार इस बिंदु पर विस्तृत रिपोर्ट पेश करे। और यदि अदालत सरकार के जवाब से संतुष्ट नहीं होगी तो वह उत्तरप्रदेश सरकार के आदेश तथा राजा भइया के विरुद्ध विभिन्न अदालतों में चल रहे मुकदमों का स्वयं परीक्षण करेगी। तथा हाई कोर्ट यह तय करेगा कि मुकदमे वापिस लिए जाएं अथवा नहीं।

उच्च न्यायालय के कड़े आदेश की जानकारी मिलते ही राजा भइया समर्थकों में मुर्दानगी छा गयी है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126