लेडीज़ सीरियल किलर मानसिक रोगी की हाई कोर्ट से भी फांसी की सजा बरकरार

राजस्थान के कोटा में महिला की हत्या करने वाले एक साइको किलर के फांसी की सजा को राजस्थान हाईकोर्ट ने बरकरार रखा है। कोटा के विज्ञान नगर थाना इलाके में पिछले साल महिला की हत्या कर बोरी में डालकर शव फेंकने वाले हत्यारे महावीर सिंह को कोटा पोक्सो कोर्ट-5 की सुनाई गई फांसी की सजा को राजस्थान हाईकोर्ट ने बरकरार रखा है।

आरोपी ने उद्योग नगर में 1997 में सूरसागर में मां-बेटी की नृशंस हत्या की वारदात कबूली। इसके अलावा उसने 2003 में निम्बाहेड़ा में एक महिला के साथ बलात्कार कर हत्या कर दी थी। इसी मामले में आरोपी आजीवन कारावास की सजा काट रहा था और बाद में खुली जेल से फरार हो गया था।

दरअसल 24 मई 2019 को कोटा के विज्ञान नगर के सरकारी उच्च माध्यमिक स्कूल के पीछे बोरे में एक शव मिला। कई सीसीटीवी फुटेज खंगाले जाने के बाद एक व्यक्ति कंधे पर बोरा रखकर ले जाते दिखाई दिया। वहीं, वह आदमी गोबरिया बावड़ी में भी एक महिला से बातचीत करता हुआ दिखाई दिया। पुलिस ने आरोपी की तलाश की। आरोपी का स्थाई निवास नहीं होने से पुलिस को आरोपी तक पहुंचने में काफी मेहनत करनी पड़ी। 10 जून 2019 को आरोपी को कुन्हाड़ी से गिरफ्तार किया। आरोपी ने महिला की हत्या के बाद उसके सोने के टॉप्स देकर सेल्समैन से शराब लेकर पी थी।

मामले में अपराधी की क्रूरता और अपराध की जघन्यता को गंभीरता से लेते हुए कोटा पोक्सो न्यायालय क्रम संख्या-5 ने आरोपी को 28 फरवरी 2020 को फांसी की सजा और 20 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई थी। फांसी की सजा को कोटा न्यायालय के बाद हाईकोर्ट ने भी सही मानते हुए बरकरार रखा। संभवतया कोटा न्यायालय के फांसी के फैसले पर पहली बार हाईकोर्ट ने भी मुहर लगाई है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126