लोनिवी विभाग की घोर लापरवाही बोक्स कटि॓ग के उपरांत उखाड़ फेकी नल की मेन लाइन

उरई (जालौन)। जगम्मनपुर कस्बे में सीसी रोड निर्माण के दौरान जेसीबी चालक की लापरवाही से पाइप लाइन ध्वस्त हो गई। जिससे करीब 15 हजार घरों में पेयजल आपूर्ति ठप हो गई। सुबह से ही लोगों की हैंडपंपों पर कतार लग गई। कस्बे में पानी के लिए त्राहि-त्राहि मच गई। काम के दौरान टूटी पाइप लाइन की जानकारी विभागीय अधिकारियों को भी देना मुनासिब नहीं समझा गया, जिससे मरम्मत की दिशा में कोई कदम नहीं उठे हैं। पेयजल संकट से जूझ रहे लोगों में आक्रोश है।
ब्लॉक की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत जगम्मनपुर की आबादी करीब 25 हजार है। लोगों को पानी मुहैया करवाने के लिए जल संस्थान ने पाइप लाइन बिछवाई थी।पीडब्ल्यूडी द्वारा सीसी रोड व नाली निर्माण कराया जा रहा है। जेसीबी चालक की लापरवाही से रविवार शाम दशकों पूर्व बिछाई गई पाइप लाइन ध्वस्त हो गई। जिससे आधी आबादी की पानी की आपूर्ति ठप हो गई। लोगों में पानी को लेकर त्राहि-त्राहि मची है। वहीं काम करा रहे विभागीय लोगों ने इसकी जानकारी अपने उच्चाधिकारियों को भी बताना मुनासिब नहीं समझा तथा न ही इसे ठीक करवाने की जहमत उठाई। जिससे आमजन के सामने पानी की विकराल समस्या खड़ी हो गई है। हालत है यह है कि लोग पाइप लाइन टूटने के बाद सुबह से ही हैंडपंपों पर लाइन लगाए रहे।
जगम्मनपुर आबादी क्षेत्र से इटावा-औरैया के लिए जाने वाले मार्ग पर सीसी रोड और नाली निर्माण का काम हो रहा है। सड़क निर्माण के लिए खुदाई हो रही थी, तभी गांव में दलित बस्ती के लिए जाने वाली पेयजल लाइन जेसीबी से क्षतिग्रस्त हो गई। इससे मोहल्ले में पेयजल संकट खड़ा हो गया। पीडब्लूडी के अधिशासी अभियंता अनिल कुमार शील का कहना है कि जल संस्थान ने बिना अनुमति के पाइप लाइन डाली थी। इसके लिए उन्हें 20 जून को पत्र लिखकर भी बताया था। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। जल संस्थान के जेई श्याम बहादुर वर्मा का कहना है कि सड़क व नाली निर्माण के दौरान जेसीबी से पाइप लाइन तोड़ने की जानकारी अधिकारियों को दे दी गई है।