विकास से भी कोसों दूर विकास खण्ड कुठौंद का सैदपुर उबारी गांव

उरई (जालौन)। विकास खण्ड कुठौंद क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाला ग्राम सैदपुर उबारी हाल तो यह है जहाँ पर विकास के नाम पर कुछ भी नही हुआ है। इस सम्बंध में ग्रामीणों का आरोप है कि 5 साल में ग्राम प्रधान ने कुछ भी विकास नहीं किया है आज भी कई घर ऐसे हैं जो पूरी तरह कच्चे हैं और बरसात के कारण गिर गए हैं लोग बेघर हो चुके हैं उनके रहने का आशियाना नहीं है लेकिन प्रधान या किसी उच्च अधिकारी ने अभी तक ना तो आवास मुहैया कराए हैं ना ही शौचालय अगर उन लोगों को केवल मिला है तो सिर्फ आश्वासन ही मिल सका है। यह गांव उरई औरैया हाईवे से महज 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है लेकिन आज भी विकास की राह देख रहा है और विकास से कोसों दूर है जब भी ग्रामीण शौचालय, आवास के बारे में प्रधान से कहते हैं तो प्रधान कहता है कि खाते में इतना पैसा नहीं आता कि आवास आवंटित किए जा सके। यदि गांव में स्थित बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए स्कूल की बात की जाए तो निकलने के लिए कोई भी रास्ता नहीं है जिससे बच्चे स्कूल पहुंच सके बच्चे जब भी स्कूल जाते हैं तो कीचड़ से होकर उन्हें गुजरना पड़ता है । वही अगर साफ सफाई की बात की जाए तो गांव में चारों ओर गंदगी फैली हुई है नालियों में कीट पतंगे पैदा हो रहे हैं ग्रामीणों ने बताया कि सफाई कर्मी 8 या 10 दिन में आता है और केवल गांव के जाने पहचाने दो चार मुख्य घरों पर झाड़ू लगा कर चला जाता है और प्रधान से साइन करवा कर अपना पूरा वेतन निकाल लेता है ग्रामीण भिखारी लाल, राजकुमार, अरविंद, गुड्डी, संतराम सहित कई लोगों के मकान बरसात के कारण गिर गए हैं जो बाहर छप्पर में खाना बनाने को मजबूर है लेकिन अभी तक उन्हें कोई आवासीय सरकारी पैसा नहीं मिला है जिससे वह अपना आशियाना बना सकें। ग्रामीण रिंकू वर्मा, रामरतन बाथम, शिवराज, अतर सिंह, विजय सिंह, कुँवर लाल ,बिहारी लाल ,राजकुमार सहित कई ऐसे ग्रामीणों जो गंदगी भरी बस्ती में अपना जीवन गुजार रहे और विकास की राह निहार रहे है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126