शहरों में भी फल-फूल रहा है अंधविश्वास

तांत्रिक क्रिया से जीवित करने का दावा कर 4 दिन तक घर में रखा बड़े भाई का शव, दुर्गंध उठने पर खुला राज

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया

परिवार वालों को किसी को बताने पर नाश होने की धमकी दी थी

राजधानी लखनऊ में तंत्र-मंत्र और अंधविश्वास की घटना सामने आई है। यहां इटौंजा थाना क्षेत्र में एक शख्स ने अपने बड़े भाई की मौत के बाद उसके शव का अंतिम संस्कार नहीं किया। वह चार दिनों तक शव घर में छिपाए रखा। दावा था कि सात दिन में तंत्र-मंत्र क्रिया से वह भाई को जीवित कर लेगा। मकान से दुर्गंध आने पर पड़ोसियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस टीम दरवाजा तोड़कर घर के भीतर दाखिल हुई तो मामले का खुलासा हुआ। पड़ोसियों ने आरोपी शख्स की पिटाई की है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

घटना उसरना गांव की है। गांव निवासी बृजेश सिंह (35) की चार दिन पहले बीमारी से मौत हो गई थी। उसका छोटा भाई फूलचंद्र तंत्र-मंत्र करता है। उसने घरवालों से कहा कि, वह सात दिन में बृजेश को जिंदा कर देगा। घरवालों को धमकी दी कि यदि किसी ने इस बात का जिक्र किसी और से किया तो उसका नाश हो जाएगा। इसके बाद वह शव को लेकर एक कमरे में बंद हो गया। मंगलवार रात पड़ोसियों को घर के भीतर से दुर्गंध आई तो अनहोनी की आशंका हुई। पड़ोसियों ने बृजेश के परिवार वालों से उसकी जानकारी लेनी चाही तो सभी हड़बड़ा गए।

जिस पर इटौंजा पुलिस को सूचित किया गया। पुलिस के कहने पर फूलचंद्र ने दरवाजा खोलने से इंकार कर दिया। इसके बाद पुलिस ने दरवाजा तोड़ दिया। वहीं, शव की हालत देखकर ग्रामीण आक्रोशित हो गए। लोगों ने फूलचंद्र की पिटाई कर दी। पुलिस ने स्थिति पर काबू पाते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। साथ ही तांत्रिक क्रिया करने वाले युवक फूल चन्द्र को गिरफ्तार कर लिया। एक अन्य सदस्य को भी हिरासत में लिया गया है। मृतक के अन्य परिजनों से पूछताछ की जा रही है।

सीओ हृदेश कठेरिया ने बताया यह सात दिन में शव को जिंदा करने का दवा कर रहा था। दो दिन बाद घर वालों से बोला कि, देखो इसकी आत्मा बोल रही है। मैं आत्मा से बात कर रहा हूं। तुम लोग देखना सात दिन में यह जिंदा हो जाएगा। इस तरह उसने घर में शव को बंद रखा। सीओ का कहना शव का पोस्टमार्टम होगा, जिसकी रिपोर्ट आने के बाद यह बात सामने आएगी आखिर युवक की मौत बीमारी से हुई या तंत्र मंत्र की प्रक्रिया से हुई है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126