संघ के नगर कार्यवाह ने पूर्व प्राचार्य सहित दो लोगों के विरुद्ध भयादोहन, अमानत में खयानत, जान से मारने की धमकी, सूचना प्रौद्योगिकी एक्ट में नामजद मुकदमा दर्ज कराया

नगर कार्यवाह का है पूर्व प्राचार्य पर सत्ताईस लाख रुपए बकाया
एक साजिश के तहत जिला प्रचारक को फंसाने का किया जा रहा था षडयंत्र
इस साजिश में एक विधायक के शामिल होने की चर्चाएं जोरों पर, संघ करेगा इस साजिश का भंडाफोड़
अनिल शर्मा+संजय श्रीवास्तव+डॉ. राकेश द्विवेदी
उरई: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नगर कार्यवाह ब्रह्मानंद खरे से लाखों रुपए उधार लेकर वापिस न करने तथा जिला प्रचारक दीपक जी और नगर कार्यवाह ब्रह्मानंद खरे को संघ कार्यालय में आकर जान से मारने की धमकी देने, अपने एक रिश्तेदार के माध्यम से फेसबुक में आपत्तिजनक और ब्लैकमेलिंग की भाषा वाली पोस्ट डालने के मामले में कोतवाली पुलिस ने आज पूर्व प्राचार्य डी.वी.सी अरुण कुमार श्रीवास्तव तथा उनके एक रिश्तेदार चित्रांश विकास श्रीवास्तव के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

 

गौरतलब है कि एक साजिश के तहत संघ के जिला प्रचारक दीपक जी को फेसबुक के माध्यम से आपत्तिजनक पोस्ट डालने और ब्लैकमेलिंग की कोशिश करने में कोतवाली उरई पुलिस ने आज पूर्व प्राचार्य अरुण कुमार श्रीवास्तव उनके रिश्तेदार चित्रांश विकास श्रीवास्तव के विरुद्ध आई.पी.सी. की धारा 386(भयादोहन), 406(अमानत में खयानत), 506(जान से मारने की कोशिश) तथा सूचना प्रौद्योगिकी की धारा 67 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। कोतवाली पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने की मुहिम शुरू कर दी है। संघ के जिला प्रचारक के खिलाफ की गई साजिश में जिले के एक विधायक के शामिल होने की चर्चा जोरों पर है। संघ इस साज़िश का भंडाफोड़ जल्द करेगा इसकी भी चर्चा जोरों पर है। संघ के नगर कार्यवाह ब्रह्मानंद खरे ने आज कोतवाली उरई में कोतवाल शिव गोपाल वर्मा को दिए प्रार्थना पत्र में बताया है कि वो नगर के राठ रोड के निवासी हैं। उनके पिता स्वर्गीय राम स्वरूप खरे डी.वी.सी. के प्राचार्य रह चुके हैं। साहित्य जगत में उन्हें युग कवि के रूप में जाना जाता है। ब्रह्मानंद ने बताया कि डी.वी.सी. के सेवानिवृत्त प्राचार्य अरुण कुमार श्रीवास्तव को समय-समय पर रुपया उधार दिया था। अभी भी उनपर मेरा(ब्रह्मानंद खरे) का सत्ताईस लाख रुपया बकाया है। इस बकाया धनराशि को लेकर पूर्व प्राचार्य अरुण कुमार श्रीवास्तव ने कुछ प्रतिष्ठित लोगों के बीच माह मार्च 2020 को देने का लिखित वादा किया था। कुछ रुपया उन्होंने माह अप्रैल 2020 तक देने को कहा था। लेकिन जब कल 13 जून 2020 तक कोई रुपया जब वापिस नहीं किया। तब मैंने और जिला प्रचारक दीपक जी ने फोन करके अरुण कुमार श्रीवास्तव को हिसाब करने को कहा जिसपर गुस्से से भरे हुए पूर्व प्राचार्य अरुण कुमार श्रीवास्तव मोहल्ला राम नगर स्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यालय आये और बोले सत्ताईस लाख रुपए में मैं तुम दोनों का काम तमाम करवा दूंगा। अगर जिंदा रहना चाहते हो तो दोबारा कभी सत्ताईस लाख रुपए के बारे में मुझसे बात मत करना। समझ लो मैं तुम्हारा रुपया कभी नहीं दूंगा। जाओ अपना रास्ता नापो। इसपर कार्यालय में मौजूद सुमित जी, राम मोहन जी तथा राम जी सेंगर ने उन्हें समझाने का प्रयास किया। लेकिन वो धमकी देते हुए चले गए। इसके बाद हमने कानूनी कार्यवाही करने का निर्णय किया। लेकिन इसके बाद 13 जून की ही शाम को पूर्व प्राचार्य के एक रिश्तेदार चित्रांश विकास श्रीवास्तव ने फेसबुक पर जिला प्रचारक दीपक जी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करना शुरू कर दी। उसने यह भी धमकी दी कि को जिला प्रचारक की ऑडियो टेप भी शीघ्र जारी करेगा। फर्जी आरोपों से जिला प्रचारक दीपक जी परेशान ही गये। इसके बाद हम लोग चित्रांश विकास श्रीवास्तव को समझाने उसके घर विजय नगर भी गए। जहां वो हम लोगों से दो लाख रूपए की मांग करने लगा। और बोला तुम लोग अगर पैसा नहीं दोगे तो तुम्हे इतना बदनाम कर दूंगा की तुम्हारे सामने मृत्यु के अलावा कोई चारा नहीं रहेगा। इस ब्लैकमेलिंग की भाषा से हम लोग परेशान होकर कोतवाली आये। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने दोनों आरोपियों क्रमशः पूर्व प्राचार्य अरुण कुमार श्रीवास्तव तथा चित्रांश विकास श्रीवास्तव के विरुद्ध गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तेजी से खोजबीन शुरू कर दी है।
मालूम हो कि कुछ दिनों पूर्व भाजपा की नगर मंत्री के साथ छेड़खानी और अश्लील हरकतें करने के मामले में जिला प्रचारक दीपक जी ने संघ के प्रांतीय और क्षेत्रीय अधिकारियों से तथा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह से शिकायत की थी। और यह भी कहा था जन प्रतिनिधियों के घर दलालों के अड्डे बनते जा रहे हैं। उस मामले में जिला अध्यक्ष रामेन्द्र सिंह बना जी ने कड़ी कार्यवाही करते हुए दोनों पदाधिकारियों क्रमशः रामू गुप्ता और प्रेम वर्मा को पार्टी से निकाल दिया था। भाजपा की पीड़ित महिला नगर मंत्री ने बाद में इन दोनों के विरुद्ध छेड़खानी और अश्लीलता का मुकदमा दर्ज करा दिया है। अभी पुलिस ने उनको जेल नहीं भेजा है। जिससे महिलाओं में रोष है। जिस तरह से पूर्व प्राचार्य से नगर कार्यवाह का बकाया पैसा वापिस दिलाने के लिए जिला प्रचारक दीपक जी ने पूर्व प्राचार्य अरुण श्रीवास्तव को फोन किया था। जिस प्रकार से पूर्व प्राचार्य के रिश्तेदार चित्रांश विकास श्रीवास्तव ने एक साजिश के तहत उन्हें बदनाम करने के लिए नगर कार्यवाह ब्रह्मानंद के हिसाब का पर्चा फेसबुक में डाल गया। जिस तरह से प्रदेश अध्यक्ष को लिखे गए जिला प्रचारक के पत्र को चित्रांश विकास श्रीवास्तव ने एक के बाद एक धमकी देते हुए पोस्ट डालीं। जिसके बाद उसने फेसबुक पर जिला प्रचारक का ऑडियो टेप चलाने की धमकी दी। इससे जिले में यह चर्चा जोरों पर है कि जिले का एक विधायक इस साजिश में संलिप्त है। उधर संघ के अधिकारियों का कहना है कि वो इस साजिश का शीघ्र भंडाफोड़ करेंगे।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126