सभी लोग बोेलचाल में मच्छर चैराहा की जगह शहीद भगत सिंह चैराहा कहना शुरू करें

अनिल शर्मा़+संजय श्रीवास्तव़+डा0 राकेश द्विवेदी

उरई। शिक्षक कर्मचारी मोर्चा के तत्वावधान में आज एक बैठक लाल सिंह चैहान के आवास पर हुई। बैठक को संबोधित करते हुए जिला अध्यक्ष लाल सिंह चैहान ने कहा कि उनके और उपाध्यक्ष राम बालक व्यास के संयुक्त नेतृत्व में कर्मचारी शिक्षक मोर्चा का एक प्रतिनिधि मण्डल आठ वर्ष पूर्व तत्कालीन जिलाधिकारी से मिला था और उन्हें पूरी बात बताई। तब जिलाधिकारी ने तत्कालीन पालिकाध्यक्ष श्रीमती गिरिजा देवी की अध्यक्षता में नगर पालिका के अभिलेखों में मच्छर चैराहा की जगह शहीद भगत सिंह चैराहा करने का सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया था।
15 अगस्त, 2020 की पूर्व संध्या पर नगर पालिका के अध्यक्ष अनिल बहुगुणा ने शहीद भगत सिंह चैराहे की चारों दिशाओं में शहीद भगत सिंह चैराहा नाम की पट्टिकाएं लगवाकर अमर शहीद भगत सिंह को सही मायने में श्रद्धांजलि अर्पित की। बैठक के तुरन्त बाद षिक्षक कर्मचारी मोर्चा के जिलाध्यक्ष लाल सिंह चैहान, उपाध्यक्ष राम बालक व्यास, अतर सिंह राठौर, आदित्य मिश्रा, जयदेव यादव, कृष्णानन्द बुधौलिया, धर्मेन्द्र बबेले, हरिषंकर याज्ञिक आदि ने आज अपराह्न शहीद भगत सिंह चैराहे पर जाकर वहां शहीद-ए-आजम भगत सिंह अमर रहें। भगत सिंह चैराहा जिन्दाबाद के नारे लगाए।
इस दौरान इन सभी षिक्षक, कर्मचारी नेताओं ने नगरवासियों से अपील की कि वे ज्यादा से ज्यादा लोगों से मिलकर कहंे कि वे बोलचाल की भाषा में मच्छर चैराहा की जगह शहीद भगत सिंह चैराहा कहना शुरू करें। आप चाहे आटो रिक्षा में हों या साइकिल रिक्षा में इसके चालकों केा भगत सिंह चैराहा चलने को कहें। इसी तरह ट्रैफिक पुलिस भी भगत सिंह चैराहे का नाम बोलचाल में अधिक से अधिक इस्तेमाल करे। तभी लोगों की आदत मच्छर चैराहा की जगह भगत सिंह चैराहा कहने की पड़ जाएगी। यह शहीद-ए-आजम भगत सिंह को याद करने तथा उन्हें श्रद्धांजलि देने का तरीका भी है।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126